हेल्दी बेबी के लिए प्रेगनेंसी में में कितना वेट गेन है नॉर्मल? पढ़ें पूरी जानकारी इस लेख में


हेल्दी बेबी के लिए प्रेगनेंसी में  में कितना वेट गेन है नॉर्मल? पढ़ें पूरी जानकारी इस लेख में

हर महिला के लिए सबसे सुखद पल वह होता है जब उसको पता चलता है कि वह माँ बनने वाली है।  अपने अंदर पल रही नन्हीं सी जान के बारे में सोचकर हर माँ हजारों सपने बुनती है। प्रेगनेंसी में पति और घरवालों की तरफ से ज़्यादा प्यार और देखभाल पाकर महिला ख़ुशी से फूली नहीं समाती।  जब आप माँ बनने वाली हों तो घरवालों को आपके साथ-साथ आपके बच्चे की भी चिंता रहती है। प्रेगनेंसी में हर महिला अक्सर अपनी माँ, सास या घर की दूसरी औरतों से सुनती ही है कि ये खाओ, ये मत खाओ, भारी वजन वाला सामान मत उठाओ, ज्यादा काम मत करो... ऐसी ना जाने कितनी सलाहें उसे हर रोज़ मिलती रहती हैं।  जब कोई महिला प्रेगनेंट होती है तो उसके खान-पान पर ज़्यादा ध्यान दिया जाता है।  ऐसा कहा जाता है कि प्रेगनेंसी में दो लोगों के लिए खाना चाहिए। प्रेगनेंसी में वजन बढ़ना आम बात है लेकिन कई बाद वजन इतना ज्यादा बढ़ जाता है कि इसके कारण अन्य समस्याएं होने लगती हैं। तो आखिर प्रेगनेंसी में कितना वजन बढ़ना नॉर्मल है? अगर आपके मन में भी यह सवाल है तो यह लेख जरूरी पढ़ें। आज हम आपको  बताएंगे कि प्रेगनेंसी के दौरान वजन बढ़ना ही चाहिए? अगर हाँ, तो कितना वजन बढ़ना चाहिए? आइए जानते हैं -  

 

प्रेगनेंसी में कितना वेट गेन होगा? 

आमतौर पर प्रेगनेंसी के 9 महीने के दौरान हर महिला का वजन बढ़ता है। लेकिन प्रेगनेंसी में आपका कितना वेट गेन होगा इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है।  डॉक्टर्स के मुताबिक प्रेगनेंसी में कितना वजन बढ़ना चाहिए यह कई बातों पर निर्भर करता है। डॉक्टर्स का कहना है कि हर महिला की जरूरत के हिसाब से वजन अलग-अलग हो सकता है। आमतौर पर प्रेगनेंसी में महिला का 10-12 किलो तक वजन बढ़ता है।   

 

इसे भी पढ़ें: क्या है विदड्रॉअल ब्लीडिंग और क्या इसके बाद भी हो सकते हैं प्रेगनेंट? पढ़ें इस लेख में


क्या प्रेग्नेंसी में 2 लोगों के लिए खाना चाहिए?

डॉक्टर्स के मुताबिक प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली मां का जितना भी वजन बढ़ता है उसमें सिर्फ कुछ हिस्सा ही फैट होता है। महिला का जितना भी वजन होता है उसमें बच्चे का वजन, प्लासेंटा का वजन, अमीनीऐटिक फ्लूड का वजन, एक्सट्रा ब्लड का वजन और शरीर में होने वाले नैचरल वॉटर रिटेंशन का वजन शामिल होता है। कई महिलाएं प्रेगनेंसी में ओवरईटिंग करने लगती हैं और जंक फ़ूड का सेवन अधिक करती हैं, लेकिन यह गलत है। हर प्रेगनेंट महिला के लिए हेल्दी और बैलेंस्ड डायट का सेवन करना बेहद जरूरी है ताकि उसे और उसके होने वाले बच्चे को सभी जरूरी पोषक तत्व मिल सकें। 


प्रेगनेंसी में कितनी कैलरीज़ की जरूरत होती है?

अक्सर प्रेगनेंट महिलाओं को यह सलाह मिलती है कि उन्हें प्रेगनेंसी में ज़्यादा खाना चाहिए क्योंकि अब उन्हें 2 लोगों के लिए खाना है।  लेकिन ऐसा नहीं है। प्रेगनेंसी के दौरान आपको 2 लोगों के लिए खाना खाने की जरूरत नहीं। डॉक्टर्स के मुताबिक प्रेगनेंसी के दौरान 300 एक्स्ट्रा कैलरीज़ काफी होती हैं। यानि आप प्रेगनेंसी से पहले जितनी कैलरीज ले रहीं थी, प्रेगनेंसी के दौरान आपको उसमें सिर्फ 300 हेल्दी कैलरीज और ऐड करने की जरूरत होती है। इतनी कैलरीज़ आपकी और आपके होने वाले बच्चे की जरूरतों को पूरा करने के लिए काफी हैं।  


बीएमआई के हिसाब से कितना वेट गेन है नॉर्मल?  

प्रेगनेंसी के दौरान आपका कितना वजन बढ़ना नॉर्मल है यह इस बात पर भी निर्भर करता है कि प्रेग्नेंसी से पहले आपका वजन कितना था। डॉक्टर्स के अनुसार अगर कोई महिला अंडरवेट है (बीएमआई 18.5 से कम) है तो प्रेगनेंसी के दौरान उनका 14 से 18 किलो तक वजन बढ़ना चाहिए। अगर महिला का वजन नॉर्मल ( बीएमआई 18.5 से 24.9 के बीच) है तो प्रेगनेंसी में उसका 11 से 16 किलो तक वजन बढ़ना नॉर्मल है। अगर कोई महिला पहले से ही ओवर वेट (बीएमआई 25 से 30 के बीच) है तो उसके लिए 7 से 11 किलो वेट गेन सही रहता है। वहीं, अगर कोई महिला ओबीस कैटगरी में आती है (बीएमआई 30 से अधिक) तो उसका 5 से 9 किलो तक वजन बढ़ना काफी है। गाइनैकॉलजिस्ट्स के मुताबिक प्रेगनेंसी के अलग-अलग स्टेज के हिसाब से वजन बढ़ना नॉर्मल माना जाता है। डॉक्टर्स के मुताबिक प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने के दौरान 2 से 3 किलो तक वजन बढ़ना चाहिए। पहली तिमाही के बाद पूरी प्रेगनेंसी के दौरान हर हफ्ते आधा किलो वेट गेन नॉर्मल माना जाता है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts