इन योगासनों की मदद से कमजोर हड्डियों को करें मजबूत


इन योगासनों की मदद से कमजोर हड्डियों को करें मजबूत

मजबूत हड्डियां अच्छे स्वास्थ्य की निशानी होती हैं लेकिन आजकल बदलती लाइफ स्टाइल और गलत खान-पान के चलते कम उम्र में ही कमजोर हड्डियों की शिकायत होने लगी है खासकर महिलाओं में। जिसका असर डेली रूटीन में भी देखने को मिलता है। कैल्शियम सप्लीमेंट्स और कैल्शियम से भरपूर डाइट आपकी इस समस्या का दूर करते है लेकिन कुछ योगासन भी आपकी हड्डियों को मजबूत बना सकते हैं। आइये जानते हैं इन योगासनों के बारे में


त्रिकोणासन

इस आसान में आपकी मुद्रा त्रिकोण के समान हो जाती है। अगर आप कमर दर्द से परेशान है तो यह आसन आपकी इस समस्या से छुटकारा दिला सकता है। त्रिकोणासन मोटापा दूर करने के साथ ही आपको डाइबिटीज की परेशानी को भी बैलेंस रखता है। यह हड्डियों को मजबूती देने के साथ ही आपको एक्टिव रखता है। इस आसन में आप सीधे खड़े हो जाएं दोनों हाथों को कंधे की बराबरी में सीधा रखें अब दायीं तरफ झुकते हुए पैरों के तलवों तक हाथ ले जाए इस मुद्रा में आप दो से तीन मिनट तक रहें। वापस आप रिलेक्स की अवस्था मे आएं।    


भुजंगासन

अगर आपकी कलाइयों या फिंगर्स के जॉइंट्स में दर्द रहता है तो आपको यह आसन जरूर करना चाहिये। इससे आप अपने लोअर बैक के दर्द से भी मुक्ति पा सकते हैं। भुजंगासन आपकी डबल चिन की परेशानी को भी जड़ से खत्म कर देता है। आप पेट के बल लेट जाए दोनों हाथों को कंधे के पास रखें दोनों पंजे साथ जुड़े रहे। अपने शरीर का पूरा भार हाथों पर रखे और अपने हाथों की सहायता से अपने शरीर का ऊपरी हिस्सा ऊपर उठायें। शरीर को स्ट्रेच करें कुछ देर इसी अवस्था में रहने के बाद रिलैक्स की मुद्रा में आएं। शुरुआत में आप यह दो से तीन बार दोहराएं।


वृक्षासन

इस आसन को करने से आपकी हड्डियां मजबूत बनती हैं साथ आपको मानसिक एकाग्रता की प्राप्ति होती है, इससे मन शांत होता है। इस आसन के लिए आप सीधे खड़े हो जाये। दाएं पैर को मोड़ कर बाएं घुटने से लगाएं दोनों हाथों को ऊपर की ओर प्रार्थना की मुद्रा में जोड़ कर रखें। शरीर सीधा रखें और खुद को स्ट्रेच करें। शुरू में आप पांच मिनट तक इस मुद्रा में रहें, धीरे-धीरे इस आसन को बीस मिनट तक करें।


वज्रासन

इस आसन की सहायता से आप हड्डियों की कमजोरी को दूर कर सकती हैं। इसके लिए आप दोनों पैरों को मोड़ कर घुटनों के बल बैठ जाएं। एड़ियों को अपने हिप्स पर टिका दें। दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें और सिर को सीधा रखें। लम्बी सांस लें और इस मुद्रा में आप दस मिनट तक रहें। वापस रिलेक्स की मुद्रा में आ जाए।


अगर आप ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या से परेशान हैं तो आपको प्राणायाम, वज्रासन और वीरभद्रासन लाभकारी होंगे।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts