लोअर बैक पेन की वजह से नहीं कर पा रहे हैं कोई काम? ये योगासन करने से मिलेगा जल्द आराम


लोअर बैक पेन की वजह से नहीं कर पा रहे हैं कोई काम? ये योगासन करने से मिलेगा जल्द आराम

आजकल ज़्यादातर लोगों की डेस्क जॉब होती है। कंप्यूटर और लैपटॉप के सामने घंटों काम करने के कारण अधिकतर लोगों की कमर में दर्द है। बैठने का खराब तरीका भी लोअर बैक पेन का एक मुख्य कारण है। अक्सर लोग इस दर्द को नज़रअंदाज़ करते हैं। लेकिन कई बार यह दर्द इतना ज़्यादा बढ़ जाता है कि पेनकिलर लेने तक की नौबत आ जाती है। अगर आप भी लोअर बैक के दर्द से परेशान हैं तो योग से आपको फायदा हो सकता है। ऐसे कई योगासन हैं जिनके नियमित अभ्यास से लोअर बैक पेन से छुटकारा पाया जा सकता है। आज के इस लेख में हम आपको ऐसे ही कुछ योगासन के बारे में बताएंगे - 


उत्तानासन

इस आसान को करने के लिए सीधा खड़े हो जाएं और लंबी सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं। अब आगे की ओर झुककर दोनों हाथों से जमीन को स्पर्श करने का प्रयास करें। इस दौरान आपके घुटने सीधे होने चाहिए। कुछ सेकंड इसी मुद्रा में रहें। फिर हाथों को ऊपर ले जाएं और सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे प्रारंभिक अवस्था में लौट आएं। इस प्रकार एक चक्र पूरा हो जाएगा। इस आसान के 4-5 चक्र किए जा सकते हैं।भुजंगासन 


भुजंगासन 

इस आसान को करने के लिए ज़मीन पर पेट के बल लेट जाएँ। अब अपनी कोहनियों को कमर से सटा के रखें और हथेलियां ऊपर की ओर रखें। अब धीरे-धीरे सांस भरते हुए अपनी छाती को ऊपर की ओर उठाएं। उसके बाद अपने पेट के भाग को धीरे धीरे ऊपर उठा लें। इस स्थिति में 30 सेकंड तक रहे। अब बाद सांस  छोड़ते हुए, अपने पेट, छाती और फिर सिर को धीरे-धीरे जमीन की ओर नीचे लाएं।


बालासन 

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले ज़मीन पर घुटनों के बल बैठ जाएं। ध्यान रखें कि आपके घुटने आपस में सटे हुए और पैर नितम्बों के ऊपर टिके हुए हों। अब शरीर को आगे की ओर झुकाते हुए, धीरे-धीरे सिर ज़मीन से लगाएं। अब दोनों हाथों को सिर से लगाते हुए आगे की ओर सीधा रखें और हथेलियों को ज़मीन से लगाएं। इस अवस्था में कम से कम 30 सेकेंड तक रहें। इस आसान को 4-5 बार दोहराएँ। 


पवनमुक्तासन 

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले अपनी पीठ के बल लेट जाएं और अपने दोनों पैरों को फैलाएं। अब दोनों पैरों को उठाएं और घुटने मोड़ लें। इसके बाद अपने हाथों की मदद से घुटने के नीचे अपनी पिंडलियों के पास पकड़ें। अब सांस छोड़े और घुटनों को दबाते हुए छाती की ओर लाएं। अब अपना सिर उठाएं और घुटनों को छाती के पास लाएं, जिससे ठोड़ी घुटनों को स्पर्श करने लगे। कुछ देर इस अवस्था में रूकें। इसके बाद सांस लेते हुए पैरों को जमीन पर लेकर आएं। 


गौमुखासन 

इस आसान को करने के लिए आराम से बैठने की स्थिति में आ जाएं। अब अपनी बाईं कोहनी को ऊपर उठाएं और अपनी बांह को मोड़ें ताकि आपका हाथ आपकी पीठ पर आ जाए। अब अपनी बाईं कोहनी को धीरे से दाईं ओर खींचने के लिए अपने दाहिने हाथ का उपयोग करें। इस मुद्रा में 30 सेकेंड तक रहें। फिर इसे दूसरी तरफ से करें।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts