सर्दी-जुकाम और खांसी से हैं परेशान तो करें ये योगासन, जल्द मिलेगी राहत


सर्दी-जुकाम और खांसी से हैं परेशान तो करें ये योगासन, जल्द मिलेगी राहत

सर्दी-जुकाम होना आम बात है। कई बार मौसम बदलने की वजह से या सर्दगर्म के कारण सर्दी-जुकाम हो जाता है। लेकिन आजकल कोरोना महामारी के कहर के बीच सर्दी-जुकाम होना भी गंभीर समस्या बन गया है। हालाँकि, हर सर्दी-जुकाम कोरोना नहीं है। लेकिन फिर भी सर्दी-जुकाम को ठीक होने में कुछ समय तो लगता ही है। सर्दी लगने के कारण खांसी, जुकाम और सिरदर्द से इंसान परेशान हो जाता है। ऐसे में अक्सर लोग दवाइयों का सहारा लेते हैं। हालाँकि, नियमित योगाभ्यास से भी सर्दी-जुकाम से छुटकारा पाया जा सकता है। अगर आप भी सर्द-जुकाम से परेशान हैं तो ये योगासन जरूर करें -  


सेतुबंधासन (ब्रिज पोज़)

इस आसान को करने के लिए ज़मीन पर पीठ के बल लेट जाएं। हाथ को शरीर से सटा कर और हथेलियों को ज़मीन से लगा कर रखें। फिर धीरे-धीरे नितंबों, कमर और पीठ के सबसे ऊपरी हिस्से को ऊपर उठाएं। इस अवस्‍था में 3 से 5 मिनट तक रहें। सांस छोड़ते हुए आसन से बाहर आ जाएं।


मत्स्य आसन (मछली मुद्रा)

अपनी पीठ के बल लेटें और अपने शरीर के नीचे अपनी बाहों को मोड़ें। अपने सिर और छाती को ऊपर उठाएं, सांस लें और फिर अपनी पीठ को झुकाते हुए सिर को जमीन पर टिका दें। अपनी कोहनी का उपयोग करके अपने पूरे शरीर का संतुलन बनाए रखें। इस मुद्रा में साँस लेते और छोड़ते रहें। जब तक आप सहज हों, तब तक इस मुद्रा को बनाए रखें।


धनुरासन

इस आसान को करने के लिए जमीन पर पेट के बल उल्टा लेट जाएं और अपनी ठुड्डी को जमीन पर नीचे टिका दें। फिर अपने दोनों पैरों को मिलाएं और सीधे रहें। इसके बाद अपने पैरों को मोड़ते हुए पीछे लाएं और अपने हाथों से टकने को पकड़ने की कोशिश करें। फिर अपने दोनों पैरों को खींचे और इस अवस्था में 20-30 सेकंड तक रहें। इस आसान को 10 बार करें।


पर्वतासन

इस आसान को करने के लिए जमीन पर पालथी लगाकर बैठ जाएं। अब अपने दोनों हाथों को नमस्ते के आकार में जोड़ते हुए ऊपर की ओर ले जाएं।  इसके बाद गहरी सांस भरते हुए अपने कंधे, बाजू और पीठ की मांसपेशियों में एक साथ खिंचाव महसूस करें। इस स्थिति में एक से दो मिनट तक रहें। अब सांस छोड़ते हुए हाथों को नीचे लाएं। इस आसान को 10 से 15 बार दोहराएं।


हलासन

इस आसान को करने के लिए सबसे पहले पीठ के बल लेट जाएं और दोनों हाथों को शरीर के साथ सटाकर रखें। अब सांस लेते हुए धीरे-धीरे अपने पैरों को ऊपर की ओर उठाते हुए 90 डिग्री का कोण बनाएं। फिर सांस छोड़ते हुए पैरों को सिर की तरफ लाते हुए पैरों की उंगलियों को जमीन से स्पर्श कराने का प्रयास करें। कुछ सेकंड इसी मुद्रा में रहें और सामान्य रूप से सांस लेते रहें। फिर सांस लेते हुए धीरे-धीरे प्रारंभिक  अवस्था में लौट आएं। इस प्रकार एक चक्र पूरा हो जाएगा। इस आसान के 4-5 चक्र किए जा सकते हैं।


उत्तानासन

इस आसान को करने के लिए सीधा खड़े हो जाएं और लंबी सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं। अब आगे की ओर झुककर दोनों हाथों से जमीन को स्पर्श करने का प्रयास करें। इस दौरान आपके घुटने सीधे होने चाहिए। कुछ सेकंड इसी मुद्रा में रहें। फिर हाथों को ऊपर ले जाएं और सांस छोड़ते हुए धीरे-धीरे प्रारंभिक अवस्था में लौट आएं। इस प्रकार एक चक्र पूरा हो जाएगा। इस आसान के 4-5 चक्र किए जा सकते हैं।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts