कोरोना से बचाव के लिए करें इम्युनिटी बढ़ाने वाले ये 5 योगासन


कोरोना से बचाव के लिए करें इम्युनिटी बढ़ाने वाले ये 5 योगासन

भारत में कोरोनावायरस की महामारी दूसरी लहर से चारों तरफ हड़कंप मचा हुआ है। हर दिन कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। पिछले कई दिनों से आए दिन देशभर में कोरोना पॉजिटिव मामलों का आंकड़ा 4 लाख पार कर रहा है।  ऐसे में बहुत जरूरी है कि हम अपने खानपान और स्वास्थ्य का खास ख्याल रखें। कोविड से उन लोगों को ज़्यादा नुकसान हो रहा है, जिनकी इम्युनिटी कमज़ोर है। सही खानपान के साथ नियमित योगाभ्यास से भी इम्युनिटी मजबूत होती है। योग करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और संक्रमण से बचाव होता है। आज के इस लेख में हम आपको इम्युनिटी बढ़ाने वाले कुछ योगासन बताने जा रहे हैं - 

भुजंगासन 

इस आसान को करने के लिए ज़मीन पर पेट के बल लेट जाएँ। अब अपनी कोहनियों को कमर से सटा के रखें और हथेलियां ऊपर की ओर रखें। अब धीरे-धीरे सांस भरते हुए अपनी छाती को ऊपर की ओर उठाएं। उसके बाद अपने पेट के भाग को धीरे धीरे ऊपर उठा लें। इस स्थिति में 30 सेकंड तक रहे। अब बाद सांस  छोड़ते हुए, अपने पेट, छाती और फिर सिर को धीरे-धीरे जमीन की ओर नीचे लाएं।


मंडूकासन

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले जमीन पर कमर सीधी करके बैठ जाएं। इसके बाद अपने दोनों घुटनों को मिलाकर पंजों और एड़ियों को नितंबों के पास ले जाएं। इस तरह आपको वज्रासन में बैठना है। इसके बाद आपको दोनों हाथों की हथेलियों को एक-दूसरे के ऊपर रखकर नाभि तक ले जाना है। अब सांस को छोड़ते हुए पेट को थोड़ा अंदर खींचें। इसके बाद धीरे-धीरे आगे की ओर झुकें और नाभि को अपनी मुट्ठी से दबाएं। अपनी पीठ को सीधा रखें और आगे कि ओर झुके रहें। अब इस मुद्रा में सांस को बाहर ही रोककर रखें और कुछ समय तक इसी मुद्रा में रहें। धीरे-धीरे सांस लें और छोड़े और जितना संभव हो इस स्थिति को बनाएं रखें। फिर सांस लेते हुए अपनी प्रारम्भिक अवस्था में वापस आ जाएं। इस प्रक्रिया को 4-5 बार दोहराएं। 


पश्चिमोत्तानासन

इस आसन को करने के लिए सबसे पहले ज़मीन पर सीधा बैठ जाएं और दोनों पैरों को फैलाकर एक-दूसरे से सटाकर रखें। अब दोनों हाथों को ऊपर की ओर उठाएं। इस दौरान आपकी कमर बिल्कुल सीधी रहनी चाहिए। अब झुककर दोनों हाथों से अपने पैरों के दोनों अंगूठे पकड़ें। ध्यान रखें कि इस दौरान आपके घुटने मुड़ने नहीं चाहिए और पैर भी जमीन से सटे हुए होने चाहिए।


भुजंगासन 

इस आसान को करने के लिए ज़मीन पर पेट के बल लेट जाएँ।अपनी कोहनियों को कमर से सटा के रखें और हथेलियां ऊपर की ओर। अब धीरे-धीरे सांस भरते हुए अपनी छाती को ऊपर की ओर उठाएं। और उसके बाद अपने पेट के भाग को धीरे धीरे ऊपर उठा लें। इस स्थिति में 30 सेकंड तक रहे। अब बाद सांस  छोड़ते हुए, अपने पेट, छाती और फिर सिर को धीरे-धीरे जमीन की ओर नीचे लाएं।


त्रिकोणासन 

इस आसन को करने के लिए अपने पैरों को कंधों के जितना खोल कर आराम से आप खड़े हो जाएं। पैर खोल कर खड़े होने के बाद दाएं पंजे को थोड़ा बाहर की तरफ ले जाएं और बाएं पंजे को अंदर की तरफ करें। अब दोनों हाथों को दोनों तरफ कंधे की सीध में अच्छी तरह से फैला लें। इतना करने के बाद एक लंबी गहरी सांस लें और उसके बाद सांस को बाहर की तरफ छोड़ते हुए सिर और कमर को सामान्य रखते हुए कूल्हों की तरफ से दाई तरफ झुकें और दाएं हाथ की उंगली को तलवे के पास लगाने की कोशिश करें। ऐसा करने के बाद सास लेते हुए दोबारा से अपनी उसी अवस्था में लौट आए। इसके बाद दूसरी तरफ से भी यही प्रक्रिया दोहराएं।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts