महिलाओं में अक्सर होती है यूरिन इंफेक्शन की समस्या, जानिए इससे बचाव के तरीके


महिलाओं में अक्सर होती है यूरिन इंफेक्शन की समस्या, जानिए इससे बचाव के तरीके

महिलाओं को पुरूषों से ज़्यादा स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यूरिन इन्फेक्शन ओर यूरिनरी ट्रैक इन्फेक्शन यानी UTI, ये आजकल होने वाली सबसे आम समस्या है। आजकल आकड़ों के अनुसार लगभग 100 में से 80 प्रतिशत लोगों को  इस समस्या से झुंझना पड़ता है। ये समस्याएं हमारी ही कई लापरवाहियों से हो सकती हैं, जैसे मूत्र को ज्यादा देर तक रोक कर रखना या अच्छे से साफ सफाई न करना। बहुत से शुगर मरीजों को भी ये समस्या होना आम बात है। लड़कियो को महवारी के समय इसके फेलने का ज्यादा ख़तरा होता है।


इस इन्फेक्शन को पहचानने के बहुत से लक्षण है जैसे,
*बार बार पेशाब आना
*पेशाब का रंग गहरा होना
*पेशाब में से अधिक बदबू आना
*गुप्त अंगो में खाज खुजली होना
*कमर से नीचे वाले हिस्से में दर्द होना
*यूरिन में ब्लड आना
*बुखार आना या ठंड लगना
*कमजोरी और थकान होना
*पेशाब का रुक रुक के होना
*पानी कम पीना
*गर्भावस्था के दौरान मूत्राशय या इन्फ़ैकशन होना
*साफ सफाई का ध्यान ना रखना


जब मूत्राशय में बैक्टीरिया इकट्ठे हो जाते है, तो ये इंफेक्शन मूत्र के द्वारा फैलता जाता है तो इस इन्फेक्शन को पहचान कर जल्दी से इसका इलाज करना चाहिए। यू टी आई के इलाज के बहुत से तरीके है जैसे:
* गर्म पानी से सिकाई करने से ब्लैडर को आराम मिलता है और इन्फेक्शन कम होता है।
* क्रेनबेरी का फल इस इनफ़ेक्शन को कम करने में सहायक होता है तीन चार दिन तक इसके जूस का सेवन करे तो इन्फेक्शन ठीक हो जाता है।
* लहसुन खाने से भी इन्फेक्शन कम करने में बहुत मदद मिलती है। इसमें एन्टी बैक्टीरियल गुण होते है जो की इन्फेक्शन फैलाने वाले बैक्टीरिया को खत्म करदेते है।
*ज्यादा पानी पीने से शरीर के बैक्टीरिया यूरिन के साथ निकल जाते हैं और सूजन, दर्द में भी राहत मिलती है।
*इंफेक्शन के समय चाय, कॉफ़ी, चॉक्लेट से बिल्कुल परहेज करें।


यूरिन इंफेक्शन से किडनी के खराब होने का खतरा बढ़ जाता इसलिए लड़कियों को ख़ासकर मूत्रमार्ग को साफ रखना चाहिए, और माहवारी के समय पैड आदि की सफाई का ध्यान रखना जरूरी है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts