20, 25, 30 या 35, जानें क्या है उम्र और फर्टिलिटी रेट के बीच संबंध


20, 25, 30 या 35, जानें क्या है उम्र और फर्टिलिटी रेट के बीच संबंध

पिछले कुछ दशकों से अधिकतर महिलाएं अपने करियर या देर से शादी के कारण देर से गर्भवती होने का विकल्प चुन रही हैं। प्रेगनेंसी के लिए 25 से 30 साल के बीच की उम्र को बेस्ट माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस उम्र में एक औरत का शरीर माँ बनने के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाता है जिससे प्रेगनेंसी में ज़्यादा परेशानी नहीं होती है। हालांकि, यह पूरी तरह से एक व्यक्तिगत पसंद है कि महिला कब बच्चा पैदा करना चाहती है। लेकिन तथ्य यही है कि महिला की प्रजनन क्षमता उम्र के साथ कम होती है। युवावस्था में गर्भधारण करना 30 और 40 के दशक की तुलना में गर्भधारण करने से बहुत आसान होता है। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि हर उम्र में महिला के गर्भधारण की संभावना क्या होती है -


एक महिला में जन्म के समय लगभग 1 से 2 मिलियन अंडे होते हैं। जब तक एक लड़की युवास्था तक पहुँचती है तब तक उसके अंडाशय में केवल 300,000 अंडे बचे होते हैं। इन बचे हुए अंडों में से सभी निषेचित होने के लिए स्वस्थ नहीं होते। इसके अलावा ओवुलेशन के दौरान केवल एक हफ्ते का समय होता है जब महिला गर्भवती हो सकती है। इतना ही नहीं, उम्र के साथ महिला और पुरुष दोनों की प्रजनन दर कम हो जाती है। इसके अलावा खानपान, जीवनशैली और शारीरिक गतिविधि भी आपके गर्भधारण की संभावना को प्रभावित कर सकते हैं। आइए जानते हैं किस आयु में महिला का प्रजनन दर कितना होता है - 


20

एक महिला की प्रजनन क्षमता उसके शुरुआती 20 के दशक में चरम पर होती है। अंडाशय में मौजूद लगभग 90 प्रतिशत अंडे क्रोमोसोमल रूप से सामान्य होते हैं, जिससे गर्भधारण की संभावना बढ़ जाती है। अध्ययनों से पता चलता है कि 24 साल की उम्र में एक महिला का प्रजनन दर सबसे ज़्यादा होता है। इस उम्र में एक स्वस्थ महिला में एक मासिक धर्म के दौरान गर्भवती होने की संभावना लगभग 4 में से 1 होती है।


25 से 30 

25 से 34 वर्ष की आयु में प्रजनन दर में लगभग 10 प्रतिशत की गिरावट आती है। एक साल तक कोशिश करने के बाद गर्भधारण की संभावना 86 फीसदी होती है। इसके अलावा, इस चरण में गर्भपात का जोखिम 20 के दशक की शुरुआत की तुलना में अधिक होता है। 


30 

30 के दशक की शुरुआत में गर्भपात का खतरा 20 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। लेकिन पूरे साल तक प्रयास करने के बाद भी गर्भधारण की 80 प्रतिशत संभावना होती है। किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना से बचने के लिए अपने डॉक्टर के संपर्क में रहना बेहतर है।


35 के बाद 

डॉक्टर्स के मुताबिक 37 वर्ष की आयु से पहले गर्भवती होने का समय अच्छा माना जाता है। आंकड़ों से पता चलता है कि 35 वर्ष की उम्र के बाद प्रजनन दर में गिरावट होती है जिसके कारण महिला को गर्भधारण करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। हालाँकि, अंडाशय में अभी भी बहुत सारे अंडे होते हैं लेकिन उनकी गुणवत्ता अच्छी नहीं होती है। इसके साथ ही इस चरण में गर्भपात का खतरा भी ज्यादा होता है। आप बच्चा पैदा करने के लिए इन विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) का विकल्प भी चुन सकती हैं। यदि आप 40 और 50 वर्ष के बीच में गर्भधारण करने की योजना बना रही हैं तो आप एग फ्रीजिंग का विकल्प भी चुन सकती हैं।


40 के बाद

40 वर्ष की उम्र के बाद अंडे की गुणवत्ता और मात्रा दोनों ही नीचे चली जाती है। इस पड़ाव में गर्भधारण करने के बाद भी गर्भपात, प्री मैच्योर बर्थ और गर्भावस्था संबंधित अन्य जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है। इस चरण में महिलाओं के 90 प्रतिशत अंडे असामान्य होते हैं। इसके अलावा, कुछ महिलाऐं प्रीमेनोपॉज़ल चरण में भी पहुँच जाती हैं जहाँ गर्भवती होने की संभावना 5-10 प्रतिशत तक कम हो जाती है। ऐसे में आईवीएफ के माध्यम से गर्भ धारण करना सबसे अच्छा तरीका है। 


डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts