नशे की लत बन सकती है महिलाओं में अनियमित पीरियड्स का बड़ा कारण


नशे की लत बन सकती है महिलाओं में अनियमित पीरियड्स का बड़ा कारण

महिलाओं का पीरियड्स का दौर सबसे दर्दनाक होता है। महिलाओं में पीरियड्स आना हर महीने की आम समस्या है। पीरियड्स आमतौर में 10 से 13 साल के बीच में लड़कियों को होना शुरू हो जाते हैं। काफी लोगों को पीरियड्स अनियमित तौर से होने लगते हैं जोकि एक गंभीर समस्या है।  इस समस्या को मेडिकल में 'ओलिगोमेनोर्रही कहते हैं। जिन लोगों को अनियमित पीरियड्स की समस्या होती है उनको ये दिक्कत आगे जाकर बढ़ने लगती है जिसकी वजह से उनको साल में या तो बहुत कम बार या बहुत ज्यादा बार पीरियड्स आने लग जाते हैं।

 

अनियमित पीरियड्स क्यों होते है 

 

1. पीरियड्स शुरू होने के बाद शरीर में बदलाव होने लगते है, जिसकी वजह से शरीर में हॉर्मोन भी विकसित होने लगते है। पीरियड्स के दौरान महिलाओं के शरीर में  एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टोस्टेरोन नामक हॉर्मोन्स बनने लगते हैं। इन हॉर्मोन्स में गड़बड़ी होने के कारण पीरियड्स में दिक्कत होने लगती है जिसकी वजह से पीरियड्स अनियमित होने शुरू होते हैं। 

2. इसके अलावा पीरियड्स को अनियमित होने की वजह कुछ बीमारियाँ भी हो सकती है जैसे- एनीमिया, थाइरोइड, हार्मोनल असंतुलन, लिवर की समस्या, डायबिटीज़ या फिर धूम्रपान, अल्कोहल, कैफीन का ज्यादा मात्रा में लेना। 

3. महिलाओं के लिए गर्भ निरोधक पिल्स लेना भी बहुत खतरनाक साबित होता है। गर्भ निरोधक पिल्स में कुछ ऐसे कारक पाए जाते है, जिसमें हॉर्मोन्स के बाद गड़बड़ी होने की आशंका हो जाती है

4. कभी-कभी कुछ दवाओं के कारण अनियमित पीरियड्स हो सकते हैं या फिर बहुत अधिक व्यायाम करना, बहुत कम या ज्यादा शरीर का वजन होना, या पर्याप्त कैलोरी का न खाना।

5. महिलाओं का ज्यादा तनाव लेना भी एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन्स पर सीधा असर पड़ता है जिसकी वजह से ब्लीडिंग में अनियमिता आनी  शुरू हो जाती है।

 

अनियमित पीरियड्स के उपचार- 

 

1.इन चीजों का उपचार काफी चीजों से ठीक हो जाता है लेकिन पीरियड्स अनियमित होने की दिक्कत खान-पान से भी ठीक हो जाती है। शरीर में कुछ तत्वों की कमी की वजह से भी अनियमता आने लगती है। 

 

2.अनियमित पीरियड्स की तकलीफ को थेरेपी द्वारा भी ठीक किया जा सकता है, थेरेपी के दौरान शरीर के हॉर्मोन के उतार-चढ़ाव को थेरपी से ठीक किया जाता है जिसकी मदद से पीरियड्स नियमित आने लगते हैं।

 

3.नियमित व्यायाम आपको स्वस्थ रखने में मदद करता है। नियमित व्यायाम शरीर में हॉर्मोन्स में उतार-चढ़ाव होने नहीं देता जिसकी मदद से पीरियड्स नियमित रूप से चलते रहते हैं।

 

पीरियड्स का होना महिलाओं में आम बात है लेकिन पीरियड्स का अनियमित होना महिलाओं के लिए एक गंभीर समस्या हो सकती है जिसकी लिए आपको सचेत रहने की जरूरत पड़ेगी। 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts