सिजेरियन डिलीवरी के बाद जरूर खाएं यह चीज़ें, रिकवरी में मिलेगी मदद


सिजेरियन डिलीवरी के बाद जरूर खाएं यह चीज़ें, रिकवरी में मिलेगी मदद

डिलीवरी के बाद एक महिला को अपने खानपान का खास ख्याल रखने की जरूर होती है। इस समय एक नई माँ का शरीर काफी नाजुक होता है और उसे अपने नवजात शिशु को स्तनपान भी करवाना होता है। वहीं, सिजेरियन डिलीवरी में महिला को ऑपरेशन के बाद ठीक होने में काफी समय लगता है। ऐसे में सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिला को अधिक पोषण की जरूरत होती है, जिससे वह जल्दी रिकवर हो सके। सिजेरियन डिलीवरी के बाद नई महिला को अपनी डाइट में ऐसी चीज़ें शामिल करनी चाहिए जिससे उसे और उसके नवजात शिशु को पूर्ण पोषण मिल सके। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि सिजेरियन डिलीवरी के बाद महिला को क्या खाना चाहिए -


कैल्शियम 

डिलीवरी के बाद महिला के शरीर को कैल्शियम की जरूरत होती है। सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद अपने आहार में दूध, दही, पनीर और सोया मिल्क जरूर शामिल करें। ये सभी कैल्शियम के बेहतरीन स्रोत होते हैं। इससे शरीर को पोषण मिलता है और हड्डियाँ मजबूत होती हैं। 


फाइबर

डिलीवरी के बाद कब्‍ज की परेशानी होना आम बात है। ऐसे में फाइबर से भरपूर पदार्थ जैसे ओट्स, साबुत अनाज, कच्चे फल और सब्जियां आपको कब्‍ज से बचा सकते हैं। इन्हें अपने आहार में जरूर शामिल करें। 


प्रोटीन 

डिलीवरी के बाद अपने खाने में प्रोटीन युक्त भोजन जरूर शामिल करें। नई कोशिकाओं के ऊतकों के विकास के लिए और टांकों के घाव को भरने में प्रोटीन बहुत मदद करता है। प्रोटीन से युक्‍त चीजें खाने से मांसपेशियां मजबूत बनती है। डालें, मछली, अंडे, चिकन, डेयरी उत्‍पादों, मीट, मटर, बींस और नट्स में प्रोटीन होता है, इन्हें अपनी डाइट में शामिल करें।


विटामिन 

डिलीवरी के बाद जल्दी ठीक होने के लिए महिला के शरीर को विटामिन की बहुत जरुरत होती है। विटामिन एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं और ऊतकों के विकास में मदद करते हैं। पालक, दूध, शकरकंद, मूंगफली, अदरक, लहसुन, अंडा, टमाटर, अंगूर, तरबूज और संतरा में विटामिन ए और सी मौजूद होता है। सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद इन्हें अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। 


आयरन 

डिलीवरी के समय अत्यधिक रक्तस्त्राव के कारण खून की कमी और कमज़ोरी महसूस हो सकती है। डिलीवरी के बाद अपने खाने में आयरन से भरपूर पदार्थ जैसे अंजीर, पालक, अनार, आलू, ब्राउन राइस, ब्राउन रोटी और मेथी आदि अवश्य शामिल करें। इससे आपके शरीर में खून की कमी नहीं होगी और कमजोरी भी महसूस नहीं होगी।  


हल्‍दी 

डिलीवरी के बाद नई माँ को हल्दी वाला दूध पीने को दिया जाता है। दरअसल, हल्दी में एंटी इंफलामेट्री गुण होते हैं जिससे बाहरी और आंतरिक घावों को जल्‍दी भरने में मदद मिलती है। सिजेरियन डिलीवरी के बाद हल्दी वाला दूध जरूर पिएँ। इसके अलावा अपने खाने में भी हल्दी का इस्तेमाल जरूर करें।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts