अगर पेशाब करने में होता है दर्द या जलन तो आप को भी हो सकती हैं ये बिमारी


अगर पेशाब करने में होता है दर्द या जलन तो आप को भी हो सकती हैं ये बिमारी

कभी कभी यूरिन करते वक़्त जलन होना एक आम बात है लेकिन अगर आजकल की साफ़ सफाई को देखें तो महिलाओं को ऐसी समस्यूया योनि में संक्रमण की वजह से भी हो सकती है। कभी-कभी महिलाऐं गंदे टॉयलेट को इस्तेमाल करती है, जिसकी वजह से संक्रमण हो जाते हैं। यूरिन में सबसे ज्यादा बैक्टीरिया गंदे टॉयलेट की वजह से फैलता है। तो आज हम आपको महिलाओं की योनि से जुड़े UTI इन्फेक्शन के बारे में बताएंगे जिसके बारे में आपने शायद ही सुना हो। 

UTI और उसके लक्षण क्या होते हैं :-

UTI (यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन) महिलाओं को योनि में होता हैं। इस इन्फेक्शन का असर तक़रीबन 40% बॉडी में फैलता है। ये इन्फेक्शन हर महिला को होता है। UTI किडनी पर भी अपना सीधा अटैक करता हैं। महिलाओं के बीच यूटीआई जिसे मूत्र मार्ग संक्रमण भी कहा जाता है, का सबसे सामान्य और प्रचलित कारण वेस्टर्न स्टाइल के टॉयलेट हैं जहां इस संक्रमण का जोखिम अधिक बढ़ जाता है। 15 से 40 की उम्र के बीच यह समस्या अधिक देखी जाती है। UTI का सामान्य लक्षण है, पेशाब करते समय दर्द या जलन होना, रुक-रुक कर पेशाब आना, पेट के निचले हिस्से में मीठा-मीठा दर्द बना रहना, हरारत महसूस होना, पेशाब करते समय कभी-कभी खून आना। 

UTI के बचाव :-  

UTI से बचाव के लिए पेशाब को ज्यादा देर तक बिलकुल नहीं रोकना चाहिए। पेशाब के रोकने से पेट में बैक्टीरिया फैलने लगते हैं जो और भी बहुत सी  बीमारियां पैदा करते हैं। 

UTI से बचने के लिए आपको केवल कुछ सावधानियां बरतनी पड़ेंगी, जैसे दिन भर में कई बार पानी पीते रहें। इससे आपको दिन में कई बार पेशाब करने जाना पड़ेगा। पेशाब बाहर निकलने की वजह से अक्सर ऐसी बीमारियां नहीं लगती। योनि की स्वच्छता का पूरा ख़याल रखें और पेशाब करने के बाद पानी से जरूर साफ़  करें। उसके आलावा अंदर के कपड़ो को भी साफ रखें।   

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts