अपनाएं ये घरेलू उपाय पीलिया से जल्द मिल सकती है निजात


अपनाएं ये घरेलू उपाय पीलिया से जल्द मिल सकती है निजात

रोगाणुओं के फैलने से कई तरह की बीमारियां होने का खतरा रहता है। आमतौर पर यह बीमारियां गर्मी तथा बरसात के दिनों में सबसे अधिक होती हैं। इन्हीं में से एक है पीलिया इस बीमारी के कारण शरीर में खून की कमी होने लगती है और पूरा शरीर बिल्कुल पीला पड़ जाता है। साथ ही पाचन तंत्र भी बहुत ज्यादा कमजोर हो जाता है। इस बीमारी को जॉन्डिस नाम से भी जाना जाता है।


इस बीमारी के कारण त्वचा से लेकर आंखें, नाखून, पेशाब का रंग पीला हो जाता है, साथ ही लीवर कमजोर होकर ठीक से काम करना बंद कर देता है। यहां तक की धीरे-धीरे रोगी को भूख लगनी भी बंद हो जाती है,  जी मचलाने लगता है। यदि कोई व्यक्ति इन लक्षणों की अनदेखी करता है, तो उससे इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है। इसलिए हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बताएंगे। जिस से आप पीलिया या जॉन्डिस जैसी बीमारी से निजात पा सकते हैं।


पीलिया में करेले का उपयोग काफी लाभदायक है

पीलिया जैसी बीमारी में करेले का सेवन बहुत ही गुणकारी होता है। करेले के अंदर पीलिया को कम करने के बहुत ज्यादा गुण होते हैं। इस बीमारी में करेले के रस का सेवन करना चाहिए। इस रस के सेवन से पीलिया बहुत जल्दी ठीक हो जाता है। पीलिया जैसी बीमारी से निजात पाने के लिए करेले का रस बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है। इसीलिए रोगी को प्रतिदिन एक चौथाई कप करेले के रस का सेवन करना चाहिए। इसके सेवन से लीवर बिल्कुल स्वस्थ बना रहता है।


आंवला पीलिया में बहुत मददगार साबित होगा

यदि आप पीलिया जैसी बीमारी से ग्रस्त हैं और इसका सही से इलाज नहीं हो पा रहा है, तो तुरंत ही आपको आंवले का सेवन शुरू कर देना चाहिए। आंवला एक शक्तिशाली जड़ी-बूटी है। जो जिगर को सही से काम करने में बहुत ही ज्यादा मदद करता है। इसीलिए प्रतिदिन दिन में तीन बार आंवले के रस का सेवन अवश्य करना चाहिए। इसे पीने से लीवर विकार से छुटकारा पाने में मदद मिलती है।


पीलिया से छुटकारा दिलाता है टमाटर रस

पीलिया के रोगी को प्रतिदिन हर सुबह खाली पेट टमाटर के रस का सेवन करना चाहिए। टमाटर का रस पीलिया जैसी बीमारी में बहुत ही ज्यादा प्रभावी उपाय है। टमाटर में कई सामग्रियां होती हैं, जो कि पीलिया को खत्म करने के लिए बहुत ही ज्यादा मददगार साबित होती हैं। टमाटर की सामग्री में लाइकोपिन होता है, जो जिगर के कामों में बहुत ही ज्यादा मदद करता है, और रिकवरी प्रक्रिया को भी काफी तेज करता है। स्वाद के लिए आप टमाटर के रस में काली मिर्च और नमक मिलाकर भी उसका सेवन कर सकते हैं।


गिलोय से भी पीलिया की बीमारी दूर हो सकती है

भारतवर्ष अपने जड़ी बूटियों और आयुर्वेदिक चीजों के लिए पूरे विश्व में जाना जाता है। इतिहास गवाह है कि भारत में कई बड़ी बीमारियां आयुर्वेदिक तरीके से खत्म कर दी गई हैं। इसी तरह पीलिया जैसी बीमारी के लिए एक बहुत ही असरदार और प्रभावी इलाज है, गिलोय का इस्तेमाल। गिलोय आयुर्वेद की सबसे मूल्यवान जड़ी-बूटियों में से एक है।

 

यदि लीवर में किसी भी तरह का नुकसान हो रहा है तो गिलोय लीवर को उस नुकसान से बचाती है और लीवर की कोशिकाओं के पुनर्जन्म में मदद करती है। 20 ग्राम गिलोय लेकर उसके अंदर से उसका रस निकाल लें और उसका सेवन करें। इसके अच्छे परिणाम के लिए प्रतिदिन दो से तीन बार गिलोय के रस का सेवन करें। ऐसा करने से कुछ ही दिनों में पीलिया जैसी बीमारी आपके शरीर से बिल्कुल खत्म हो जाएगी।


पीलिया को रोकने के लिए हल्दी भी है मददगार

भारत में हर घर की रसोई में हल्दी अवश्य मिल जाएगी। क्योंकि हल्दी के अंदर कई गुण होते हैं, जिससे कई बीमारियों का विनाश होता है। हर व्यक्ति हल्दी के उपचार वाले गुणों और उच्च औषधीय मूल्य को बहुत ही अच्छे से जानता है। पीलिया जैसी बीमारी में भी हल्दी का सेवन सर्वोत्तम है। इस बीमारी में हल्दी का सेवन करने से बहुत ही जल्दी शरीर स्वस्थ और फिट हो जाता है। एक कप गर्म पानी में एक चौथाई चम्मच हल्दी मिलाएं और प्रतिदिन सुबह-शाम इसका सेवन करें। हल्दी लीवर के कार्यों को सही प्रकार से चलाने में बहुत मदद करती है और अच्छे परिणाम के लिए हल्दी का सेवन प्रतिदिन दिन में 3 बार करें।


पीलिया में जौ पाउडर भी है काफी लाभदायक

पथरी जैसी बीमारी में जौ का पाउडर बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। यह उसे जड़ से खत्म कर देता है। इसी प्रकार पीलिया जैसी घातक बीमारी में जौ का पाउडर बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता है। जौ बिलीरूबिन सहित शरीर से जहरीले पदार्थों को कम करने में करने में मदद करती है। गर्म पानी में भूनी हुई जौ का पाउडर और एक चम्मच शहद अच्छी तरह मिलाएं और इसे रोज़ाना दिन में दो बार पियें।


नींबू है पीलिया को ठीक करने का देसी नुस्खा

पीलिया की बीमारी में नींबू का सेवन बहुत ही ज्यादा लाभकारी है। नींबू के इस्तेमाल से लिवर बिल्कुल सही तरीके से काम करता है। इसलिए पीलिया से निजात पाने के लिए प्रतिदिन दिन में दो या तीन बार नींबू के रस का सेवन करें। इसके नियमित इस्तेमाल से पीलिया बिल्कुल जड़ से खत्म हो जाएगा।


कुटकी से पाए पीलिया से छुटकारा

कुट्की पीलिया इलाज के लिए सबसे अच्छी जड़ी बूटियों में से एक है। यह लिवर को स्वस्थ को बनाए रखने में बहुत ज्यादा मदद करती है। साथ ही पित्त के उत्पादन को नियंत्रित करती है। रोजाना 1-2 चम्मच कुट्की जड़ों के चूर्ण को दिन में दो बार गर्म पानी के साथ पियें। यदि पीलिया ज्यादा लंबे समय से है, तो इसका सेवन निसोथ के साथ करें।


पीलिया में नीम भी है बहुत कारगर उपाय

पीलिया जैसी बीमारी में नीम बहुत ही ज्यादा लाभकारी है। नीम के अंदर कई तरह के वायरल विरोधी घटक पाए जाते हैं। इसी कारण से यह हेपेटाइटिस के इलाज में बहुत ही ज्यादा उपयोगी होता है। यह जिगर में उत्पन्न विषाक्त पदार्थों को नष्ट करने में भी सक्षम होता है। इसकी पत्तयों के रस में शहद मिलाकर सुबह-सुबह पियें। निश्चित रूप से आप को पीलिया की बीमारी से निजात मिल जाएगी।


अर्जुन की छाल भी है उपयोगी

अर्जुन के पेड़ की छाल, दिल के लिए बहुत ही अच्छी मानी जाती है। साथ इसमें मौजूद एल्कलॉइड जिगर में कोलेस्ट्रॉल के उत्पादन को विनियमित करने की क्षमता भी रखता है। यह पीलिया जैसी बीमारी के लिए भी बहुत ही गुणकारी उपाय है।


डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts