जानिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का राजा कहे जाने वाले अश्वगंधा के अद्भुत लाभ


जानिए आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों का राजा कहे जाने वाले अश्वगंधा के अद्भुत लाभ

अश्वगंधा एक सदाबहार पेड़ है जो भारत, मध्य पूर्व और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में पाई जाती है। औषधीय प्रयोजनों के लिए इसकी जड़ों और नारंगी-लाल फलों का उपयोग सैकड़ों वर्षों से किया जाता रहा है। इस जड़ी-बूटी को भारतीय जिनसेंग या शीतकालीन चेरी भी कहा जाता है। अश्वगंधा नाम इसकी जड़ (घोड़े की तरह) की गंध का वर्णन करती है। परिभाषा के अनुसार अश्व का अर्थ घोड़ा होता है।


इस जड़ी-बूटी को आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली में सबसे महत्वपूर्ण जड़ी-बूटियों में से एक माना जाता है, जो एक स्वास्थ्य देखभाल प्रथा है जो 3,000 साल पहले भारत में शुरू हुई थी। आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में, अश्वगंधा को एक रसायन माना जाता है। इसका मतलब है कि यह एक जड़ी-बूटी है, जो युवाओं को मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाए रखने में मदद करती है।


अश्वगंधा के फायदे


1. अश्वगंधा तनाव से जूझ रहे लोगों के लिए लाभदायक हैं, क्योंकि यह कोर्टिसोल 'तनाव हार्मोन' के उच्च स्तर को रोकता है। यह वास्तव में ट्रैंक्विलाइज़र और अवसादरोधी दवाओं में उपयोग किया जाता है, क्योंकि यह शारीरिक और मानसिक तनाव को दूर करने और अवसाद को दूर करने में मदद करता है।


2. अश्वगंधा की घाव भरने की क्षमता के लिए आयुर्वेद में एक समृद्ध इतिहास है। परंपरागत रूप से ताजी पत्तियों का उपयोग संयुक्त रूप से जोड़ों के दर्द, त्वचा के घावों को ठीक करने और सूजन को कम करने के लिए किया जाता था।


3. इंडियन जर्नल ऑफ साइकोलॉजिकल मेडिसिन में प्रकाशित परिणाम बताते हैं कि अश्वगंधा आराम को बढ़ावा देने में मदद करता है, क्योंकि यह एक प्राकृतिक एडेपोजेन है।


4. आयुर्वेद में अश्वगंधा को बलिया के रूप में जाना जाता है, जिसका अर्थ है सामान्य दुर्बलता जैसी स्थितियों में ताकत देना। यह ऊर्जा में सुधार, सहनशक्ति और धीरज बढ़ाने के लिए जाना जाता है।


5. अश्वगंधा जड़ी बूटी विभिन्न प्रकार के मानसिक अपक्षयी रोगों के लिए एक आशाजनक वैकल्पिक उपचार है। इसमें तंत्रिका कोशिकाओं के विकास को बढ़ावा देने और पर्यावरण के हानिकारक प्रभावों से मस्तिष्क की कोशिकाओं की रक्षा करने की क्षमता प्रदर्शित की गई है।


6. अश्वगंधा का उपयोग कामोत्तेजक के रूप में भी किया जाता है, क्योंकि यह यौन स्वास्थ्य का समर्थन करता है।


7. इसका उपयोग सदियों से एक सामान्य बॉडी टॉनिक के रूप में किया जाता है, क्योंकि यह आपको मजबूत और स्वस्थ महसूस कराता है।


8. अश्वगंधा में कैंसर रोधी एजेंट होने की भी संभावना है, क्योंकि यह कैंसर के ट्यूमर के विकास को धीमा कर देता है।


9. अश्वगंधा एंडोक्राइन सिस्टम पर भी काम करता है। एक अध्ययन के अनुसार अश्वगंधा के प्रयोग से मोनोपॉज के दौरान गर्म चमक और मिजाज जैसे लक्षणों में कमी पाई गई है।


10. ऐतिहासिक रूप से अश्वगंधा की जड़ों का उपयोग गठिया, कब्ज़, अनिद्रा, मधुमेह, नर्वस ब्रेकडाउन, बुखार आदि के उपचार में किया जा सकता है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts