प्रदूषण से सिर्फ एयर प्यूरीफायर नहीं बचायेगा, यह उपाय आएंगे बहुत काम


प्रदूषण से सिर्फ एयर प्यूरीफायर नहीं बचायेगा, यह उपाय आएंगे बहुत काम

दिल्ली और आसपास के क्षेत्रों में गंभीर होती वायु प्रदूषण की स्थिति ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। वैसे तो जीने के लिए सांस लेना जरूरी होता है लेकिन हर सांस अगर गंभीर बीमारियों या मौत को दावत दे तो सवाल यही उठता है कि जिएं तो जिएं कैसे बिन साफ हवा के। प्रकृति ने मनुष्य को कुछ चीजें उपहार में दी हैं जैसे जल, धरती, हवा, सूर्य, चाँद, नदियां, पहाड़, हरे भरे वन और धरती के नीचे छिपी हुई खजिन सम्पदा। लेकिन विकास की अंधी दौड़ कह लें या मनुष्य के लालच की सीमा का नहीं होना, प्रकृति के सभी उपहारों का हमने बुरा हाल करके छोड़ दिया है।

 

अब दिल्ली और उसके आसपास क्या हो रहा है देख लीजिये, क्या बच्चे, क्या बूढ़े और क्या जवान सभी बेहाल हैं। लोगों के मन में कई सवाल हैं। दिल्ली में प्रदूषण पंजाब या हरियाणा के किसानों की ओर से पराली जलाये जाने से बढ़ा है, वाहनों की बढ़ती संख्या के कारण बढ़ा है, त्योहारों पर चलाये जाने वाले पटाखों से बढ़ा है या किसी अन्य कारण से...हमारी आपको सलाह है कि इन सवालों की चिंता छोड़ कर आप तो बस अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दीजिये और राजनीतिक आरोपों-प्रत्यारोपों के साथ ही आजकल तमाम एयर प्यूरीफायर कंपनियों के दावों के चक्कर में पड़कर अपना समय और पैसा भी बर्बाद मत करिये। आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे उपाय जिनसे प्रदूषण के समय आप अपने शरीर को स्वस्थ रख सकते हैं और आप यह काम बिना किसी एयर प्यूरीफायर के कर सकते हैं।

 

 

- प्रदूषण के दिनों में आप यह ध्यान रखें कि सूर्योदय से पहले घर से बाहर नहीं निकलें। योग आदि करना हो तो घर पर ही करें।

- नारियल पानी का ज्यादा से ज्यादा उपयोग भी प्रदूषण के दुष्प्रभाव से आपको बचाता है।

- भोजन भी संतुलित करें और मौसमी फल तथा सब्जियों का ज्यादा उपयोग करना चाहिए।

- सुबह और शाम को आंखों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। साथ ही जलनेति का उपयोग भी प्रदूषण के दिनों में करना लाभकारी रहता है।

- घर में एयर प्यूरीफायर की जगह प्रदूषण से लड़ने की ताकत रखने वाले पौधे रखना लाभकारी रहता है। पौधे लगाते समय यह नहीं सोचना चाहिए कि एक ही जगह 10-12 पौधे रख दें तो सही रहेगा। ऐसा करने की बजाय पूरे घर में जगह-जगह 2-3 पौधे रखने चाहिए। जो पौधे प्रदूषण से लड़ सकते हैं उनमें तुलसी का पौधा, स्नेक प्लांट यानि नाग पौधा, बैंबू पाम, स्पाइडर प्लांट और एरेका पाम प्रमुख हैं। ये जो पौधे हमने आपको बताये हैं उनमें एरेका पाम को छोड़ दें तो यह सभी बेहद सस्ते हैं और इनकी देखरेख भी बेहद आसान है।

- प्रदूषण जब ज्यादा हो तो घर में तीन या चार बार गीला पोंछा लगाना चाहिए क्योंकि इससे आपके घर में धूल के कण बिलकुल नहीं रहेंगे।

- ज्यादा प्रदूषण के दिनों में घर की खिड़कियां और दरवाजे बंद ही रखने चाहिए साथ ही यह भी ध्यान रखें कि कोई भी मास्क आपको ज्यादा समय सुरक्षित नहीं रख सकता इसलिए ज्यादा देर खुले में नहीं रहें। खासकर जिन लोगों को सांस की समस्या है उनके लिए मास्क ज्यादा उपयोगी नहीं हैं।

- एक-एक चम्मच च्यवनप्राश का सेवन सुबह-शाम करने से बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है।

- सुबह खाली पेट तुलसी की कुछ पत्तियों का सेवन करें।

- बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ाने के लिए सुबह-सुबह नीम की कुछ पत्तियों या लहसुन की एक कली का सेवन भी कर सकते हैं।

- घर से बाहर जाने से पहले तिल या सरसों का तेल या देसी घी को हल्का-सा गर्म करें और फिर उसे ठंडा करके 2-3 बूंदें नाक में अंदर की तरफ लगाने से जहां एलर्जी पैदा करने वाली चीजें अथवा धूल कण सांस के जरिये शरीर के भीतर नहीं पहुँच पाते।

- घर पर ही एयर प्यूरीफायर आप बना सकते हैं इसके लिए आपको बस छोटा-सा काम करना होगा। एग्जॉस्ट फैन तो आपके घर पर होगा ही। आपको बस इतना काम करना है कि बाजार से फिल्टर खरीद कर लायें और इसे एग्जॉस्ट फैन पर सेट कर दें। यह फिल्टर आपको बाजार में 500 से 1000 रुपए की रेंज में मिल जाएंगे और एग्जॉस्ट फैन के साथ आपके लग कर आपके घर की हवा को काफी हद तक साफ कर देंगे। यूट्यूब पर आप इससे संबंधित कई वीडियो भी देख सकते हैं कि एग्जॉस्ट फैन पर फिल्टर को किस तरह लगाना है।

 

-नीरज कुमार दुबे

 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts