सिर में रहता है तेज़ दर्द तो अपनाएं ये घरेलु नुस्खे, मिनटों में छूमंतर हो जाएगा सिरदर्द


सिर में रहता है तेज़ दर्द तो अपनाएं ये घरेलु नुस्खे, मिनटों में छूमंतर हो जाएगा सिरदर्द

सिर में।न-पान , तनाव, थकान, ज़्यादा शोर या किसी अन्य कारण से सिर में दर्द हो सकता है। आमतौर पर सामान्य सिरदर्द में कुछ घंटो तक सिर में हल्का दर्द होता है और यह आसानी से अपने आप ठीक भी हो जाता है। लेकिन कई बार सिर में बहुत तेज़ दर्द होता है ये कुछ दिनों तक रह सकता है। कभी-कभी किसी कारणवश सिर में हल्का दर्द होना तो सामान्य बात है लेकिन अगर आपको लगातार हर दूसरे दिन बहुत तेज़ सिरदर्द हो रहा हो तो इसे बिल्कुल भी नज़रअंदाज़ ना करें। 

बार-बार या ज़्यादा तेज़ सिरदर्द आपके रोज़मर्रा के कामों में भी बाधा बन सकता है। सिरदर्द होने पर किसी भी काम में मन नहीं लगता है और दर्द कभी-कभार इतना तेज होता है कि असहनीय हो जाता है। सिर में होने वाला तेज़ दर्द आइसपिक हैडएक (icepick headache) भी हो सकता है। इस तरह के सिरदर्द में अचानक से इतना तेज़ दर्द होने लगता है कि इसे बर्दाश्त कर पाना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में इसे गंभीरता से लेने की जरूरत है और तुरंत डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए। कई हेल्थ एक्सपर्ट्स का मानना कि आइसपिक हैडएक हमारे दिमाग के central pain mechanism (केंद्रीय दर्द नियंत्रण तंत्र) में  कुछ अस्थायी ब्रेकडाउन होने के कारण हो सकता है। जिसकी वजह से ऐसा तीव्र और असहनीय सिरदर्द हो सकता है। इस तरह के सिरदर्द में सिर के सामने और दोनों तरफ  असहनीय दर्द होता है तीव्र चुभन महसूस होती है। आइस पिक सिरदर्द में stabbing pain होता है मतलब ऐसा लगता है जैसे कोई आपके सिर में कुछ चुभा रहा हो। ऐसा तीव्र सिरदर्द  आपको कुछ सोचने-समझने में असमर्थ बना देता है और यह कई अन्य परेशानियों का कारण भी बन सकता है। 


डॉक्टर्स के मुताबिक इस सिरदर्द का क्या कारण है, इसके बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। हालांकि, ऐसे सिरदर्द से राहत पाने के लिए आप डॉक्टर की सलाह से दवा ले सकते हैं लेकिन इनके साइड इफेक्ट भी होते हैं। आज के इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे आसान और असरदार घरेलु नुस्खे बताने जा रहें हैं जिनसे आपको सिरदर्द में तुरंत फायदा होगा - 


राई 

सिरदर्द के घरेलु उपचार में राई या पीली सरसों के बीज बहुत कारगर उपाय है। इसमें कई तरह के फाइटोकेमिकल्स और पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक होते हैं। एक चम्मच पीली सरसों लें और इसे किसी बर्तन या तवे पर गर्म कर लें। हल्का ठंडा होने पर एक गिलास पानी के साथ इसका सेवन करें। 


गर्म और ठंडी सिकाई 

सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए गर्म और ठंडी सिकाई बहुत असरदार घरेलु नुस्खा है। सिरदर्द से आराम पाने के लिए आप अपने सिर, गर्दन, कंधे और हाथ-पैरों की हीट पैक या आइस पैक से सिकाई कर सकते हैं। आप चाहें तो अपने पैरों को ठंडे पानी में डालकर बैठ सकते हैं या ठंडे पानी से नहा सकते हैं। शरीर में गर्मी पैदा करने से भी सिरदर्द की समस्या में राहत मिलती है। इसके लिए अपने हाथों को आपस में रगड़ें, आपको राहत मिलेगी। 


नींबू और काला नमक 

नींबू में कई तरह के एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण पाए जाते हैं जो सिरदर्द को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा इसमें विटामिन सी, मिनरल्स जैसे कई पोषक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं जिससे सिरदर्द में जल्दी आराम मिक्ता है। सिरदर्द में तुरंत आराम पाने के लिए एक कप पानी में एक नींबू का रस और काला नमक डालकर पी लें।   


एसेंशियल ऑयल

एसेंशियल ऑयल के कई फायदे होते हैं। त्वचा के साथ-साथ ये सिरदर्द में भी बहुत प्रभावकारी हो सकता है। सिरदर्द की समस्या में एसेंशियल ऑयल के इस्तेमाल से आपको जल्दी राहत मिल सकती है। बाजार में कई तरह के एसेंशियल ऑयल मिलते हैं। पुदीने का तेल (पेपरमिंट ऑयल) सिरदर्द के घरेलु उपाय के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। पुदीने के तेल से सिर को ठंडक मिलती है और सिरदर्द से राहत दिलाने में यह बहुत फायदेमंद साबित होता है। आप चाहें तो सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए किसी दूसरे एसेंशियल ऑयल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पुदीने के तेल के अलावा रोजमेरी, कैमोमाइल और लैवेंडर का तेल भी सिरदर्द में बहुत असरदार हैं।  


हल्दी 

हल्दी हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है। हल्दी में अनेक औषधीय गुण पाए जाते हैं जिससे कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं में लाभ होता है। सिरदर्द के इलाज में भी हल्दी रामबाण की तरह काम करती है। इसमें एंटी-इंफ्लामेट्री गुण मौजूद होते हैं जो सिरदर्द को कम करने में मदद करते हैं। इसके लिए एक इंच कच्ची हल्दी का टुकड़ा लें और इसे पीसकर रस निकाल लें। इस रस का सेवन करने से सिरदर्द में तुरंत राहत मिलती है। आप चाहें तो इसमें काली मिर्च का पाउडर मिलकर भी इस रस का सेवन कर सकते हैं। काली मिर्च में पाइपरीन नाम का तत्व मौजूद होता है जो इस रस के प्रभाव को तीन सौ गुणा ज़्यादा बढ़ा देता है। अगर कच्ची हल्दी ना हो तो आप मसाले में इस्तेमाल होने वाली हल्दी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए एक गिलास पानी में एक चम्मच हल्दी पाउडर डालकर पिएँ, जल्दी आराम मिलेगा।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts