खाना खाने के बाद पेट में लगता है भारीपन तो खाने के बाद खाएं ये चीज़ें, जल्द मिलेगा आराम


खाना खाने के बाद पेट में लगता है भारीपन तो खाने के बाद खाएं ये चीज़ें, जल्द मिलेगा आराम

कई लोगों को खाना खाने के बाद पेट में भारीपन महसूस होता है। इससे व्यक्ति असहज महसूस करता है और बेचैनी और नींद में बाधा भी हो सकती है। अगर आप भी इस समस्या से जूझ रहे हैं तो आज का यह लेख आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होने वाला है। आज हम आपको खाना खाने के बाद पेट का भारीपन दूर करने के कारगर घरेलू नुस्खे बताने जा रहे हैं -  


हरी इलायची

हरी इलायची का इस्तेमाल आमतौर पर खाने में महक और स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन हरी इलायची हमारे पेट के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है। अगर आपको खाना खाने के बाद पेट में भारीपन महसूस होता है तो खाने के बाद हरी इलाचयी खाने से आपको इस समस्या में लाभ हो सकता है। हरी इलायची खाने से खाना पचाने में मदद मिलती है और यह आपके पेट को फूलने से रोकने में भी मदद करती है। इसलिए खाना खाने के बाद 1 या 2 हरी इलायची ज़रूर चबाएं।


शहद

आयुर्वेद में शहद को औषधीय गुणों का खजाना कहा गया है। शहद खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। खाना खाने के बाद शहद खाने से पेट का भारीपन दूर होता है। शहद में मौजूद तत्व पाचन क्रिया को तेज़ करने के साथ-साथ इम्युनिटी को भी मजबूत करने में मदद करता है। खाना खाने के बाद 1 या 2 चम्‍मच शहद खाने से पेट का भारीपन दूर होता है। हालाँकि, अगर आपको डायबिटीज है तो शहद खाने से परहेज करें।  


भीगे हुए अलसी के बीज

असली भी हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। खाने के बाद असली का सेवन करने से पेट में भारीपन दूर होता है। असली के बीज का सेवन करने से पाचन तंत्र मजबूत होता है और पेट में भारीपन और कब्ज की समस्या भी दूर होती है। इसलिए खाना खाने के बाद रात को और सुबह के समय भीगे हुए अलसी के बीजों का सेवन करें। 


सौंफ और मिश्री

आपने देखा होगा कि आमतौर पर खाना खाने के बाद माउथ फ्रेशनर के तौर पर सौंफ और मिश्री दी जाती है। दरअसल, सौंफ और मिश्री न केवल माउथ फ्रेशनर का काम करती है, बल्कि यह हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद है। खाना खाने के बाद सौंफ और मिश्री का सेवन करने से खाना पचाने में मदद मिलती है और पेट का भारीपन दूर होता है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts