4 तरह का होता है अस्थमा, इन लक्षणों के दिखने पर जरूर बरतें सावधानियां


4 तरह का होता है अस्थमा, इन लक्षणों के दिखने पर जरूर बरतें सावधानियां

आज पूरी दुनिया के लिए अस्थमा एक बड़ी बीमारी हैं। ऐसा नहीं है कि यह बीमारी सिर्फ बुजुर्ग लोगों को होती है बल्कि बच्चों में भी यह बीमारी पाई जाती है। कई लोगों को पता ही नहीं लगता कि कब वह अस्थमा से ग्रसित हो गए हैं। अस्थमा एक गंभीर या कहें कि एक खतरनाक बीमारी है जो लगभग 25 मिलियन अमेरिकियों को प्रभावित करती है। अगर इसका उपचार समय पर नहीं किया तो यह आपके स्वास्थ्य, गृह जीवन और काम करने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।


विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के 2016 में जारी नवीनतम अनुमानों के अनुसार 2015 में अस्थमा के कारण 3,83,000 मौतें हुईं थीं। आज हम आपको अस्थमा के हर एक पहलू से रूबरू कराएंगे, क्या होता है अस्थमा, क्यों होता है, कितने प्रकार का होता है, क्या हैं इसके लक्षण और इससे कैसे बचा जा सकता है।

क्या होता है अस्थमा ?
अस्थमा प्रमुख गैर-संचारी रोगों में से एक है। यह एक पुरानी बीमारी है जो मुख्य तौर पर फेफड़ों के वायु मार्ग को प्रभावित करती है जिससे व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होती हैं और यह कुछ शारीरिक गतिविधियों को मुश्किल या असंभव भी बना सकता है। आम तौर पर, आपके द्वारा ली जाने वाली हर सांस के साथ हवा आपकी नाक से होकर आपके गले में आपके वायुमार्ग से होकर आपके फेफड़ों में प्रवेश करती है। आपके फेफड़ों में बहुत सारे छोटे वायु मार्ग हैं जो हवा से ऑक्सीजन को आपके रक्तप्रवाह में पहुंचाने में मदद करते हैं।

अस्थमा के लक्षण तब होते हैं जब आपके वायुमार्ग की परत सूज जाती है और उनके आसपास की मांसपेशियां कस जाती हैं। म्यूकस फिर वायुमार्ग को भरता है, जिससे आगे गुजरने वाली हवा की मात्रा कम हो सकती है। जिससे आपको सांस लेने में तकलीफ और फेफड़ों में जकड़न सी महसूस होती है।

अस्थमा के लक्षण
अस्थमा के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग होते हैं। आपको बार-बार अस्थमा के दौरे पड़ सकते हैं, कभी आपको निश्चित समय पर जैसे कि व्यायाम करते समय या हर समय आपको इसके लक्षण प्रतीत हो सकते हैं। अस्थमा के संकेत और लक्षणों में ये कुछ प्रमुख लक्षण शामिल हैं-

1.सांस लेने में कठिनाई
2.सीने में जकड़न या दर्द
3.खांसी या घरघराहट के कारण नींद में परेशानी
4.सांस छोड़ते समय सीटी बजना या घरघराहट की आवाज आना (घरघराहट होना बच्चों में अस्थमा का एक सामान्य संकेत है)
5.सर्दी या फ्लू जैसे वायरस द्वारा खांसी या घरघराहट के होने पर

अस्थमा का कारण- अस्थमा के लिए किसी एक कारण की पहचान नहीं की गई है। इसके बजाय शोधकर्ताओं का मानना है कि श्वास में तकलीफ विभिन्न कारणों की वजह से हो सकती है जैसे,

1.जेनेटिक्स: यदि आपके माता-पिता को अस्थमा है, तो आपके अंदर इसे विकसित होने की अधिक संभावना है।
2.स्वच्छता की परिकल्पना: इस परिकल्पना का प्रस्ताव है कि शिशुओं को उनके शुरुआती महीनों और वर्षों में पर्याप्त बैक्टीरिया के संपर्क में नहीं आना चाहिए।
3.संभावित एलर्जेन और इरिटेंट्स के साथ लगातार संपर्क अस्थमा के विकास के लिए आपके जोखिम को बढ़ा सकता है।

अस्थमा के ट्रिगर- कुछ स्थितियां और वातावरण अस्थमा के लक्षणों को भी ट्रिगर कर सकते हैं। इन ट्रिगर में शामिल हैं,

1.बीमारी: श्वसन संबंधी बीमारियां जैसे फ्लू और निमोनिया अस्थमा के हमलों को ट्रिगर कर सकते हैं।
2.व्यायाम: क्योंकि ज्यादा इंटेंसिटी वाले व्यायाम सांस लेने में दिक्कत का कारण बन सकते हैं।
3.हवा में इरिटेंट्स: अस्थमा से पीड़ित लोग रासायनिक धुएं, गंध और धुएं जैसे जलन के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं।
4.एलर्जेन: जानवरों की रूसी, धूल के कण, और पराग एलर्जी  कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो अस्थमा के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं।
5.मुश्किल मौसम: बहुत अधिक आर्द्रता या कम तापमान जैसी स्थितियां अस्थमा को ट्रिगर कर सकती हैं।
6.भावनाएँ: लगातार जोर से चिल्लाना, हंसना या रोना अस्थमा के हमले को ट्रिगर कर सकता है।

कितने प्रकार का होता है अस्थमा? वैसे तो अस्थमा के कई प्रकार होते हैं लेकिन कुछ सामान्य अस्थमा जो पाए जाते हैं वे इस प्रकार हैं:

1.बाल्यावस्था अस्थमा-
अस्थमा बच्चों में आम माना जाता है। यह किसी भी उम्र में विकसित हो सकता है, लेकिन वयस्कों की तुलना में बच्चों में यह थोड़ा अधिक सामान्य है। 2017 में 5-14 वर्ष की आयु के बच्चों को अस्थमा का अनुभव होने की सबसे अधिक संभावना थी।

2.वयस्क ऑनसेट अस्थमा-
वयस्क होने के दौरान किसी भी उम्र में अस्थमा विकसित हो सकता है। 2013 के एक अध्ययन के अनुसार बच्चों की तुलना में वयस्कों में लगातार लक्षण होने की अधिक संभावना है।

3.व्यावसायिक अस्थमा-
व्यावसायिक अस्थमा कार्यस्थल में मौजूद एक एलर्जेन या इरिटेंट्स के संपर्क में आने से होता है।

4.मौसमी अस्थमा-
इस प्रकार का अस्थमा एलर्जी के जवाब में होता है जो आसपास के वातावरण में होता है। उदाहरण के लिए सर्दियों में ठंडी हवा या वसंत या गर्मियों में पराग मौसमी अस्थमा के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं।

अस्थमा का इलाज
अस्थमा के उपचार तीन प्राथमिक श्रेणियों में आते हैं: श्वास व्यायाम, प्राथमिक चिकित्सा उपचार, और लंबे समय के लिए अस्थमा नियंत्रण दवाएं।
आपका डॉक्टर आपके लिए अस्थमा के प्रकार, आपकी उम्र और आपके ट्रिगर के आधार पर आपके लिए सही उपचार का निर्धारण करेगा।

1.सांस संबंधी व्यायाम करें
साँस लेने वाले व्यायाम आपके फेफड़ों में और बाहर अधिक हवा लाने में आपकी मदद कर सकते हैं। समय के साथ यह फेफड़ों की क्षमता बढ़ाने और अस्थमा के गंभीर लक्षणों में कटौती करने में मदद कर सकते हैं।

2.प्राथमिक चिकित्सा उपचार:
इन दवाओं का उपयोग केवल अस्थमा के दौरे की स्थिति में किया जाना चाहिए। वे आपको फिर से साँस लेने में मदद करने के लिए राहत प्रदान करते हैं।

1. इन्हेलर और नेब्युलाइज़र, जो दवा के साथ उपयोग किया जाता है जिसे फेफड़ों में गहराई सांस मिलने में मदद मिलती हैं।

2.ब्रोन्कोडायलेटर्स, जो आपके फेफड़ों में तंग मांसपेशियों को आराम करने का काम करते हैं।

3.सूजनरोधी दवाएं, जो आपके फेफड़ों में सूजन को कम करते हैं।

अस्थमा से बचने के उपाय
रखरखाव दवाओं का उपयोग करने के अलावा, आप अपने आप को स्वस्थ बनाने और अस्थमा के हमलों के लिए अपने जोखिम को कम करने के लिए प्रत्येक दिन कदम उठा सकते हैं जिसमें शामिल है:

1.स्वस्थ खाने का सेवन: एक स्वस्थ, संतुलित आहार खाने से आपके संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है, जिससे अस्थमा के हमलों के जोखिम कम हो सकते हैं।
2.एक स्वस्थ वजन बनाए रखना: अस्थमा अधिक वजन और मोटे व्यक्तियों में अधिक पाया जाता है। वजन कम करना आपके दिल, आपके जोड़ों और आपके फेफड़ों के लिए स्वस्थ है।
3.धूम्रपान छोड़ना: नशीले पदार्थ जैसे सिगरेट अस्थमा को ट्रिगर कर सकते हैं।
4.नियमित रूप से व्यायाम करना: नियमित व्यायाम वास्तव में सांस लेने की समस्याओं के जोखिम को कम कर सकता है। एरोबिक व्यायाम आपके फेफड़ों को मजबूत कर सकती है और आपको बेहतर साँस लेने में मदद कर सकती है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts