अगर आप भी जल्दी- जल्दी खाते है खाना तो ज़रूर होंगी ये समस्याएं


अगर आप भी जल्दी- जल्दी खाते है खाना तो ज़रूर होंगी ये समस्याएं

यह तो हम सभी जानते हैं कि खाना धीरे−धीरे और चबाकर खाना चाहिए लेकिन शायद ही कोई व्यक्ति हो, जो इस नियम का पालन करता हो। अमूमन लोग इतनी जल्दी में रहते हैं कि खाना भी जल्दबाजी में खाते हैं। जल्दी−जल्दी खाना खाने से व्यक्ति का वजन तो बढ़ता है ही, साथ ही व्यक्ति को अन्य भी कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। खासतौर से, इससे पाचनतंत्र प्रभावित होता है और व्यक्ति डायबिटीज की जद में भी आ जाता है। तो चलिए जानते हैं जल्दी में खाना खाने से होने वाले फायदों के बारे में−

बढ़ता है मोटापा

आप चाहे कितना भी हेल्दी फूड खाएं लेकिन अगर आप जल्दी−जल्दी खाते हैं तो इससे वजन बढ़ना स्वाभाविक है। एक स्टडी के अनुसार जब हम भोजन को अच्छी तरह से चबाकर खाते हैं तो इससे दिमाग को यह पता चलता है कि पेट भर गया है या नहीं। जिससे व्यक्ति ओवरईटिंग से बच जाता है। अमूमन मस्तिष्क को यह समझने में करीबन 20 मिनट लगता है कि वह पेट भर चुका है। वहीं जब व्यक्ति तेज गति से खाना खाता है तो मस्तिष्क को यह पता नहीं चल पाता है कि पेट भर चुका है या नहीं। जिसके चलते व्यक्ति आवश्यकता से अधिक भोजन कर लेता है। अधिक कैलोरी इनटेक के कारण धीरे−धीरे उसका वजन बढ़ना शुरू हो जाता है।

प्रभावित पाचन तंत्र

जल्दी−जल्दी से भोजन करना पाचन तंत्र के लिए भी उचित नहीं है। दरअसल, जब आप जल्दी−जल्दी भोजन करते हैं तो वास्तव में आप उसे चबाने की बजाय निगल जाते हैं। जिसके कारण आवश्यक विटामिन, मिनरल और एमिनो एसिड को शरीर अवशोषित नहीं कर पाता है। इससे पाचनतंत्र के लिए भी भोजन को पचाना मुश्किल हो जाता है। कई बार तो व्यक्ति को अपच, सीने में जलन या गैस की समस्या भी होती है।

अन्य समस्याएं

जब आप बेहद जल्द−जल्द भोजन करते हैं तो इससे इंसुलिन रेसिस्टेंस की समस्या भी होती है। जिससे हाई ब्लड शुगर और इंसुलिन लेवल बढ़ता है। इन सभी कारणों के चलते व्यक्ति को डायबिटीज की समस्या भी होती है। इस प्रकार जल्दी−जल्दी खाने की आदत आपको मधुमेह का रोगी भी बना सकती हैं। वहीं जल्दी−जल्दी खाने से मेटाबालिक सिंड्रोम का खतरा भी बढ़ता है, जो मधुमेह और हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts