दिमाग को कमजोर बना सकती हैं आपकी ये 7 आदतें, ब्रेन हो सकता है डैमेज


दिमाग को कमजोर बना सकती हैं आपकी ये 7 आदतें, ब्रेन हो सकता है डैमेज

हमारा दिमाग हमारे पूरे शरीर को कंट्रोल करता है और इसकी वजह से ही शरीर के बाकी अंग बेहतर ढंग से काम कर पाते हैं। अक्सर जाने-अनजाने में हम कुछ ऐसी आदतें अपना लेते हैं जिससे हमारे दिमाग पर बुरा असर होता है। इन आदतों से धीरे-धीरे हमारा दिमाग कमजोर होने लगता है और यह काम करना बंद कर देता है। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि आपकी कौन सी आदत है आपके दिमाग के लिए नुकसानदायक हैं -


पर्याप्त नींद ना लेना 

अगर आप कम नींद लेते हैं तो इससे आपके दिमाग पर बुरा असर हो सकता है। अगर आप ठीक से सोते नहीं हैं तो इससे आपकी मस्तिष्क की कोशिकाओं का विकास रुक जाता है। इसके अलावा अगर आप मुंह ढंक कर सोते हैं तो यह भी आपके दिमाग के लिए हानिकारक साबित हो सकता है। इससे शरीर को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिल पाता है जिसका बुरा असर मस्तिष्क पर पड़ता है।


अत्यधिक तनाव 

हमेशा तनाव में रहने से भी मस्तिष्क को नुकसान पहुंचता है। इससे याददाश्त कमजोर होने लगती है और दिमाग की कार्य क्षमता भी कम हो जाती है। अगर आप ज्यादा टेंशन लेते हैं तो ऐसा करना तुरंत बंद कर दें। इसके लिए आप खुद को व्यस्त रखें, संगीत सुनें  या योग करें। इससे आपको तनाव से दूर रहने में मदद मिलेगी और आपका मस्तिष्क स्वस्थ रहेगा।


मोबाइल का ज़्यादा इस्तेमाल 

आज के समय में हमारा ज्यादातर टाइम मोबाइल स्क्रीन के सामने बीतता है। लेकिन इससे आपके मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। दरअसल मोबाइल से निकलने वाली रेडिएशन से मस्तिष्क की कोशिकाओं को नुकसान पहुंचता है। मोबाइल या लैपटॉप पर अधिक समय बिताने से दिमाग के अंगों को हानि पहुंचती है जिससे मस्तिष्क की कार्य क्षमता कमजोर हो जाती है। इससे बचने के लिए मोबाइल है लैपटॉप का कम प्रयोग करें।


अधिक मीठा खाना 

आपका खानपान कैसा है इसका सीधा असर आपके शरीर के साथ साथ आपके दिमाग पर भी पड़ता है। हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार जो लोग लंबे समय तक अधिक मात्रा में शुगर का सेवन करते हैं उनकी याद्दाश्त कम होने लगती है। इससे दिमाग की कार्य क्षमता प्रभावित होती है और मस्तिष्क के विकास में बाधा उत्पन्न होती है।


सुबह नाश्ता ना करना 

अगर आप सुबह ब्रेकफास्ट नहीं करते हैं तो इसका बुरा असर आप के दिमाग पर पड़ सकता है। सुबह नाश्ता ना करने से ब्रेन को जरूरी पोषण नहीं मिल पाता है। इससे दिनभर थकावट महसूस होती है और यह आगे चलकर आपके मस्तिष्क के डीजनरेशन की वजह बन सकता है।


ज़्यादा गुस्सा करना 

अगर आप छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा करते हैं तो इसका नकारात्मक प्रभाव आपके दिमाग पर पड़ता है। गुस्सा करने से दिमाग की रक्त धमनियों पर प्रेशर पड़ता है जिससे दिमाग की क्षमता कमजोर हो जाती है।


सुस्त जीवनशैली 

आजकल की व्यस्त जीवन शैली में ज्यादातर लोग शारीरिक व्यायाम नहीं करते हैं। लेकिन इससे आपके शरीर के साथ-साथ आपके दिमाग को भी नुकसान पहुंचता है। दिमाग की मांसपेशियों को एक्टिव रखने के लिए एक्टिव लाइफ़स्टाइल जरूरी है। ऐसे में आप योग वॉक या एक्सरसाइज कुछ भी कर सकते हैं। 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts