वैज्ञानिकों ने बनाया एक खास गर्भनिरोधक, स्पर्म के खिलाफ बनाएगा एंटीबॉडी


वैज्ञानिकों ने बनाया एक खास गर्भनिरोधक, स्पर्म के खिलाफ बनाएगा एंटीबॉडी

अमेरिकी वैज्ञनिकों ने प्रेगनेंसी रोकने के लिए एक खास तरह का गर्भनिरोध विकसित किया है। हाल ही में बॉस्टन यूनिवर्सिटी और सैनडिएगो की कंपनी जैबबायो ने मिलकर एक खास तरह की गर्भनिरोधक एंटीबॉडी विकसित की है। यह स्पर्म को कमजोर करके प्रजनन को रोक सकती है और इससे जन्म दर को कंट्रोल किया जा सकेगा। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने इसे 'ह्यूमन कंट्रासेप्शन एंटीबॉडी' (एचसीए) नाम दिया है।


वैज्ञानिकों ने इंसान के अलग-अलग क्वालिटी वाले स्पर्म पर इस नई गर्भनिरोधक एंटीबॉडी का ट्रायल भी किया है। ट्रायल में सामने आया है कि यह 15 सेकंड में स्पर्म की कमजोर करके निष्क्रिय कर देती है। शोधकर्ताओं का मानना ​​​​है कि एचसीए का उपयोग उन महिलाओं द्वारा सुरक्षित रूप से किया जा सकता है जो अन्य मौजूदा गर्भनिरोधक विधियों का उपयोग नहीं करती हैं। इससे वैश्विक स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ेगा। 


हेलिओ डॉट कॉम पर छपी एक रिपोर्ट में बॉस्टन यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर देबोरह एंडरसन ने कहा, "एचसीए एक मानव एंटीबॉडी है, और ऐसे एंटीबॉडी स्वाभाविक रूप से मौजूद हैं, हम किसी भी दुष्प्रभाव की उम्मीद नहीं करते हैं। इस गंर्भनिरोधक एंटीबॉडी को महिला की वेजाइना में डाला जा सकता है। यह एंटीबॉडी महिला के प्राइवेट पार्ट में किसी तरह की सूजन नहीं पैदा करती। इंसानों पर पहले फेज का ट्रायल किया जा रहा है।"


शोधकर्ताओं का कहना है कि एचसीए को अन्य एंटीबॉडी के साथ जोड़ा जा सकता है, जैसे कि एंटी-एचआईवी और एंटी-एचएसवी एंटीबॉडी। यह तब गर्भनिरोधक के रूप में काम कर सकता है और यौन संचारित संक्रमणों को रोक सकता है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts