कोरोना से घबराएं नहीं- पढ़ें इस संक्रमण से ठीक हुए जाबाजों की कहानी


कोरोना से घबराएं नहीं- पढ़ें इस संक्रमण से ठीक हुए जाबाजों की  कहानी

कोरोना वायरस एक वैश्विक महामारी जिसने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले रखा है, अब भारत में तेजी से अपने पैर पसार रहा है भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही  है वहीं इस वायरस से मरने वालों की संख्या भी लगातार बढ़ गयी है। प्रधानमंत्री ने देश को दूसरी बार संबोधन किया और एक बड़ा और निर्णायक फैसला लिया और 21 दिन के लिए संपूर्ण भारत में लॉकडाउन कर दिया यह फैसला इसलिए लिया क्योंकि इससे हमारी  हमारे माता पिता भाई बहनों परिजनों और सभी देशवासियों की जान बच सके इसके साथ ही उन्होंने कोरोना वायरस का अर्थ बताया - 'कोई रोड पर ना निकले'  और इससे बचने का सिर्फ एक मात्र उपाय बताया सोशल डिस्टेंसिंग अर्थात अपने घरों से बाहर मत निकलिए और सबसे दूरी बना कर रखिये

 

आज पूरे भारत में लॉकडाउन है परंतु जरूरतमंद और  रोजमर्रा की चीजें जैसे दूध, सब्जी, राशन, दवाइयां, बैंक आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं और केंद्र और राज्य सरकारों ने यह आश्वासन दिया है कि वह किसी भी चीज की कमी नहीं होने देंगे, घर-घर  जाकर सभी चीजों को उपलब्ध कराएंगेलॉकडाउन इस फैसले के बाद लोगों के बीच एक तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है परंतु अधिकतर लोग अब यह समझ रहे हैं कि हमारा देश किस संकट के दौर से गुजर रहा है परिस्थिति की गंभीरता को समझने का प्रयास कर रहे हैं और वह सरकार द्वारा दिए जा रहे निर्देशों  का पालन भी कर रहे हैं


कुछ लोग हैं जो इस कोरोना वायरस से भयभीत घबराए हुए हैं कि यदि कहीं वह इस वायरस की चपेट में आ गए तो क्या होगा, क्या वह ठीक हो  पाएंगे या नहीं हैं? इन सब सवालों का जवाब और आप सभी को हौसला देने वाली और  कोरोना वायरस से आप कैसे बच सकते हैं इसके लिए नीचे दिए गए इन बहादुरों और जाबाजों की कहानी जरूर पढ़िए जो इस कोरोना संक्रमण से ठीक होकर अपने घर लौट आए हैं और पूरी तरह से स्वस्थ हैं-


1.  पहली कहानी रोहित दत्ता की है जो दिल्ली में कोरोना संक्रमण के सबसे पहले व्यक्ति थे फरवरी के आखिरी दिनों में रोहित को हल्का बुखार जैसा कुछ लगा तो उन्होंने डॉक्टर के पास जाकर अपना चेकअप कराया डॉक्टर ने कहा यह सीजनल है, उन्हें दवाई दी रोहित ने वह दवाई खाई परंतु उसका असर कुछ नहीं हुआ दो-तीन दिन बाद 29 फरवरी को रोहित  एक बार फिर डॉक्टर के पास गए कहा कि मुझे अपना कोरोना टेस्ट कराना है जब डॉक्टर ने उनका कोरोना टेस्ट किया तो वह पॉजिटिव पाए गए इसके बाद उन्हें तुरंत आइसोलेशन में रखा गया फिर उनसे पूछा गया कि वह  इन दिनों कहां कहां गए थे किन-किन लोगों से मिले थे इसके बाद डॉक्टर ने उन सभी लोगों का टेस्ट किया जो भी रोहित के संबंध में आए थे उन सभी लोगों का कोरना टेस्ट हुआ और वह सब नेगेटिव पाए गए रोहित 14 दिन आइसोलेशन में थे तो उन्होंने बताया की शुरुआती कुछ दिनों में उनकी हालत बहुत ही खराब थी उन्हें बहुत अजीब सा लगता था  हालांकि जो मेडिकल सुविधाएं उन्हें दी जा रही थीं वह सभी विश्व स्तर की थी परंतु उन्हें कुछ अच्छा महसूस नहीं होता था उन्होंने बताया उनके पास उनका फोन था जिससे वह अपने परिजनों के संपर्क में रहते थे जो लोग इस कोरोना से परेशान हैं उन्होंने उनसे कहा कि लोगों को यह समझने की जरूरत है कि सुविधाओं से ज्यादा उनकी सेहत जरूरी है यह 14 दिन उनके लिए काफी चुनौतीपूर्ण रहे परंतु रोहित ने अपना आत्म बल नहीं कम होने दिया वह इस कोरोना से लड़े और आज वह पूरी तरह से स्वस्थ अपने घर पर हैं। उन्होंने सभी को यह सलाह दी कि इस वायरस से जरा भी घबराने की परेशान होने की जरूरत नहीं है जैसे ही आपको इस वायरस के लक्षण जैसे लगते हैं तो तुरंत डॉक्टर के पास अपना कोरना टेस्ट कराइए क्योंकि जितनी जल्दी आप जांच कराएंगे उतनी जल्दी आप अपने घरों पर वापस लौट के आएंगे


2. दूसरी कहानी है यूपी के आगरा से अमित कपूर की वह भी इस वायरस के शिकार हुए उन्हें भी 14 दिन के आइसोलेशन में रखा गया उनका ट्रीटमेंट हुआ और 14 दिन के बाद वह सही सलामत अपने घर वापस आ गए घर लौटने के बाद उन्होंने एक वीडियो मैसेज जारी किया जिसमें उन्होंने लोगों को हौसला देते हुए बताया की इस वायरस से परेशान होने की  कोई बात नहीं है इस वायरस से जरा भी ना घबराए नहीं यदि आपके अंदर कोरोना वायरस के  लक्षण है तो सबसे पहले डॉक्टर के पास जाकर अपना कोरोना टेस्ट कराइए उन्होंने बताया कि 14 दिन का आइसोलेशन इसलिए इसलिए जरूरी होता है क्योंकि कहीं यह रोग आपके मित्रों घर बार या किसी को भी ना हो आज वह पूरी तरीके से स्वस्थ हैं उन्होंने बताया इस दौरान आप डॉक्टर का सरकार का प्रशासन का पूरा सहयोग करिए क्योंकि यही लोग आपकी जान बचा सकते हैं और यह जो भी आपको करने के लिए कहते हैं जैसा भी आपको बताते हैं आप वैसा ही करिए उन्होंने इस वायरस से बचने के लिए लोगों को एक दूसरे से दूरी बनाए रखने,  हाथ धोने, सैनिटाइजर का प्रयोग करने आदि चीजों के बारे में भी बताया


इन कहानियों को पढ़कर आपको यह समझ आया होगा कि इस कोरोनावायरस से ज्यादा परेशान, घबराने यह डरने की जरूरत नहीं है छोटी-छोटी सावधानी हैं जो आपको बरतनी होंगी एक दूसरे से दूरी बनाए रखनी होगी घर से बाहर नहीं निकलना है यदि अगर आपने एक बार यह  संकल्प ले लिया तो आप इस वायरस को हरा सकते हैं

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts