नवरात्रि का डबल फायदा- देवी को प्रसन्न करने के साथ वजन भी होगा कम


नवरात्रि का डबल फायदा- देवी को प्रसन्न करने के साथ वजन भी होगा कम

नवरात्रि में माता रानी को प्रसन्न करने के लिए कुछ लोग नौ दिन का उपवास रखते हैं। उपवास के नौ दिनों में सिर्फ सात्विक भोजन ही किया जाता है, कुछ लोग सेंधा नमक, सामा, कुट्टू के आने का सेवन करते हैं। नवरात्रि के नौ दिनों में यदि डायट का ठीक से ध्यान रखा जाए, तो सेहत ठीक रहने के साथ ही आपका वज़न भी कुछ कम हो सकता है।


संतुलित भोजन-

आम दिनों की तरह ही उपवास के नौ दिनों में भी आपका भोजन संतुलित होना चाहिए। नारियल पानी, नींबू पानी जैसे तरल पदार्थों के साथ ही तरह-तरह के फल और हरी सब्ज़ियां खा सकते हैं। ज़्यादा तेल वाली चीज़ों से दूर रहें, क्योंकि कुछ लोग उपवास की पूरी, डोसा, वड़ा आदि भी खाते हैं। ऐसी चीज़ें आपकी सेहत बिगाड़ सकती है। साथ ही पूरे दिन भूखे रहने की भी गलती न करें फल, जूस आदि लेते रहें।

 

इन बातों का रखें ध्यान-

कुछ छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखकर आप अपनी सेहत ठीक रखने के साथ ही वज़न कंट्रोल कर सकते हैं।

 

- उपवास से पहले बहुत हैवी खाना न खाएं

- रात को खाने में फल, सामा का चावल या साबूदाना खिचड़ी खाएं।

- कुछ देर के अंतराल पर नारियल पानी, नींबू पानी या फलों का जूस लेते रहें।

- केले और आलू का चिप्स ज़्यादा न खाएं।

- फुल क्रीम मिल्क की बजाय टोन्ड मिल्क में पतली खीर बनाकर खाएं या दूध पीएं।

- यदि सेंधा नमक खाते हैं तो उसकी मात्रा कम रखें। चीनी भी कम से कम खाने की कोशिश करें।

- दिन में आप फ्रूट शेक पी सकते हैं, इससे एनर्जी मिलती है। इसे पीने से व्रत के दौरान कमजोरी महसूस नहीं होगी।

- काजू, मखाना, मूंगफली को भूनकर खा सकते हैं।

- खाली पेट दूध की चाय या कॉफी न पीएं इससे एसिटिडी हो सकती है।

- ज्यादा तला-भुना खाने से बचें। कुट्टू के आटे की पूड़ी की बजाय रोटी बना लें।

- कई घंटों तक बिना खाए न रहें, बीच-बीच में हल्का फुल्का कुछ खाते रहें, जैसे ड्राई फ्रूट्स फल आदि वरना गैस की समस्या हो सकती है। 

- शरीर को एनर्जी के लिए कार्बोहाइड्रेट की ज़रूरत होती है, इसके लिए आप आलू, सीताफल, साबूदाना आदि खा सकते हैं।

 

- कंचन सिंह

 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts