टीबी सिर्फ एक ही तरह की नहीं होती, जानिए इसके सभी प्रकार


टीबी सिर्फ एक ही तरह की नहीं होती, जानिए इसके सभी प्रकार

टीबी यानी ट्यूबरकुलोसिस एक जानलेवा रोग है। इसे लोग क्षयरोग या तपेदिक के नाम से भी जानते हैं। यह आमतौर पर माइक्रोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस जीवाणु की वजह से होती है और मुख्य रूप से फेफड़ों को प्रभावित करती है। आमतौर पर लोग समझते हैं कि टीबी सिर्फ एक ही तरह की होती है, लेकिन ऐसा नहीं है। टीबी कई तरह की होती है और आपको टीबी के इन प्रकारों के बारे में पता होना चाहिए। तो चलिए जानते हैं टीबी के विभिन्न प्रकारों के बारे में−

 

टीबी के प्रकार

टीबी को उसके फैलने के तरीकों और प्रभावित अंगों के आधार पर विभाजित किया जाता है। अधिकतर मामलों में टीबी फेफड़ों को प्रभावित करता है और इस स्थिति में टीबी को फुफ्फुसीय टीबी या प्लमोनरी टीबी कहा जाता है। प्लमोनरी टीबी से प्रभावित व्यक्ति को लगातार खांसी तीन सप्ताह या उससे अधिक समय तक बनी रहती है। इसके अलावा उसे खूनी खाँसी, कफ जमना, छाती में दर्द व सांस लेने में भी दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

 

वहीं अगर टीबी फेफड़े के बाहर होता है तो उसे एक्स्ट्रापल्मोनरी टीबी कहा जाता है। इस प्रकार की टीबी में हडि्डयां, किडनी और लिम्फ नोड आदि प्रभावित होते हैं। कुछ मामलों में व्यक्ति को प्लमोनरी टीबी के साथ−साथ एक्स्ट्रापल्मोनरी टीबी भी हो सकती है। यह स्थिति तब उत्पन्न होती है, जब संक्रमण फेफड़ों से बाहर फैल जाता है और शरीर के अन्य अंगों को प्रभावित करने लगता है। इस प्रकार व्यक्ति फेफड़ों के टीबी के साथ−साथ अन्य अंगों के टीबी से भी ग्रस्त हो जाता है। यह स्थिति बेहद भयावह होती है और इस स्थित मिें रोगी की जान बचा पाना काफी कठिन हो जाता है।

 

इसके अलावा टीबी को एक्टिव व लेंटेंट टीबी के रूप में भी विभाजित किया जाता है। लेंटेंट टीबी वह होता है, जिसमें बैक्टीरिया आपके शरीर में तो होता है, लेकिन वह सक्रिय नहीं होता। जिसके कारण ना तो आपको उसके लक्षणों का अहसास होता है और ना ही वह बीमारी फैलती है। हालांकि टीबी के ब्लड व स्किन टेस्ट में आपको टीबी के बारे में पता चल जाता है। जिन लोगों का इम्युन सिस्टम कमजोर होता है, उनकी लेंटेंट टीबी आगे चलकर एक्टिव टीबी में भी बदल सकती हैं। 

 

वहीं, एक्टिव टीबी में बैक्टीरिया शरीर में फैलते हैं और आपको उसके लक्षणों का भी पता चलता है। इस स्थिति में रोगी को तुरंत इलाज की जरूरत होती है। एक्टिव टीबी होने पर रोगी को बिना किसी कारण वजन कम होना, भूख में कमी, बुखार, थकान, रात में पसीना आना जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। अगर एक्टिव टीबी का सही तरह से इलाज ना करवाया जाए तो इससे रोगी की जान जाने का भी खतरा बना रहता है। 

 

मिताली जैन

 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts