कोरोना से जंग : सरकार ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर, टेस्टिंग सेंटर; होम क्वारंटाइन से होगा बचाव


कोरोना से जंग : सरकार ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर, टेस्टिंग सेंटर; होम क्वारंटाइन से होगा बचाव

चीन से फैला जानलेवा कोरोना वायरस अब दुनियाभर में कहर मचा रहा है. भारत में कोरोना वायरस मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है. सरकार कोरोना वायरस को लेकर लोगों को जागरूक करने का निरंतर प्रयास कर रही है और देशभर में सुरक्षा के नियम लागू कर दिए गए हैं. सरकार और हेल्थ एक्सपर्ट्स ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए गाइडलाइन्स जारी की हैं और लोगों से सावधानी बरतने की अपील की है. हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस को लेकर नेशनल हेल्पलाइन जारी की है और इसके साथ ही देश भर में SARS-CoV-2 के लिए 52 टेस्टिंग साइट्स की घोषणा की है।


दुनियाभर की सरकारें और  हेल्थ एक्सपर्ट्स कोरोना वारयस की दवा खोजने में जुटे हुए हैं। हालांकि, अभी तक ऐसी किसी भी दवा का पता नहीं लग पाया है जो कोरोना वारयस के संक्रमण को रोक सके या इसका इलाज कर सके। विशेषज्ञों के मुताबिक जब तक किसी दवा या वैक्सीन का पता नहीं चलता है तब तक इसके संक्रमण को फैलने से रोककर ही इसे काबू में किया जा सकता है. हाल ही में केंद्रीय मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए होम क्वारंटाइन के लिए गाइडलाइन्स जारी की हैं. पाठकों से अनुरोध है कि सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन्स को अपनाएं और खुद को और अपने परिवारजनों को कोरोना वारयस संक्रमण से सुरक्षित करें. आइए नज़र डालते हैं कोरोना वारयस से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों पर -


कोरोना वायरस के लक्षण

कोरोना वायरस सांस संबंधी परेशानी से जुड़ा हुआ है। इसके लक्षण फ्लू से मिलते-जुलते हैं. इसमें खांसी, जुकाम, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, गले में खराश और थकान जैसे लक्षण देखने को मिलते हैं। कोरोना वायरस के लक्षण निमोनिया के लक्षण जैसे प्रतीत होते हैं और इसके लक्षण में फेफड़ों में सूजन और सांस फूलने जैसी दिक्कत भी शामिल है।


देशभर में बनाए गए 52 टेस्टिंग सेंटर

भारत में आए दिन कोरोना वायरस के संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती ही जा रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी कोरोना वायरस को महामारी घोषित कर दिया है. इस जानलेवा वायरस के 11 नए मामले सामने आने के बाद देश में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या 125 हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस यानी Covid 19 की जांच के लिए देशभर में 52 टेस्टिंग सेंटर बनाए हैं. देश के अलग-अलग प्रदेशों में स्थित इन टेस्टिंग सेंटर्स पर कोरोना के संक्रमण की जांच कराई जा सकती है.


सरकार ने जारी किया  24X7 हेल्पलाइन नंबर

देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस को लेकर नई हेल्पलाइन जारी की है. नई हेल्पलाइन 1075 पर 24 घंटे संपर्क करने की सुविधा रहेगी. इसके पहले मंत्रालय की ओर से 011-23978046 नेशनल हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया जा चुका है. यदि आप या आपसे सम्बंधित कोई भी शख्स कोरोना वायरस से पीड़ित है तो आप सरकार द्वारा जारी किए गए नेशनल हेल्पलाइन नंबर पर कोरोना वायरस से जुड़ी कोई भी जानकारी या मेडिकल हेल्प प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा [email protected] पर ई-मेल कर सकते हैं.


कोरोना वायरस से कैसे करें बचाव?

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस से बचने के लिए कुछ उपायों की लिस्ट जारी की है। इसमें कोरोना के संक्रमण से सुरक्षा के कुछ नियम बताए गए हैं जो इस प्रकार हैं -


दिन में कई बार साबुन या अल्कोहल-बेस्ड सैनिटाइज़र से हाथ धोएं


खांसते और छींकते समय मुँह को ढँक कर रखें


इंफेक्टेड व्यक्ति से दूरी बना कर रखें


कोरोना वायरस प्रभावित जगहों और भीड़-भाड़ वाली जगहों पर यात्रा करने से बचें


खांसी-बुखार को नज़रअंदाज़ ना करें


कच्चे पदार्थ और सीफूड ना खाएं


N95 मेडिकल मास्क का उपयोग करें


बीमार हैं तो ऑफिस ना जाएं


होम क्वारंटाइन से करें बचाव

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए होम क्वारंटाइन के लिए गाइडलाइन्स जारी की हैं. मंत्रालय के अनुसार होम क्वारंटाइन से आप खुद को और अपने परिवार के सदस्यों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा सकते हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक होम क्वॉरन्टीन में उन व्यक्तियों को रखा जाए जो कोरोना वायरस से संक्रमित हैं या जिन्हें संक्रमित होने का संदेह है.


होम क्वारंटाइन का अर्थ होता है संगरोध यानी अपने रोग संक्रमण को रोकने के लिए घर पर अपने आप को दूसरे लोगों से अलग कर लेना। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी की गई होम क्वारंटाइन की गाइडलाइंस इस प्रकार हैं -

 

होम क्वारंटाइन लिए हवादार सिंगल कमरा होना चाहिए, जिसमें टॉयलेट भी हो।

 

अगर परिवार के किसी अन्य सदस्य को भी उस कमरे में रहने की जरूरत हो तो कम से कम 1 मीटर की दूरी बना कर रखें.


बुजुर्ग लोगों, गर्भवती महिलाओं, बच्चों और पहले से बीमार लोगों से दूरी बनाकर रखें।


इस दौरान घर में इधर-उधर ना घूमें और चीज़ों को हाथ ना लगाएं.


किसी भी परिस्थिति में किसी भी शादी, पार्टी या अन्य सामाजिक कार्यक्रमों में हिस्सा न लें।


इन बातों का भी रखें ख़ास ख्याल -


साबुन और पानी से बार-बार हाथ धोते रहें। एल्कोहल बेस्ड हैंड सेनिटाइजर का इस्तेमाल करें.


घर में खुद से पानी, बर्तन, तौलिए और अन्य किसी चीज को न छुएं.


हर वक्त सर्जिकल मास्क पहने रखें। हर 6 से 8 घंटे में मास्क को बदलना भी चाहिए।


आपके या किसी अन्य द्वारा पहने गए मास्क को साधारण ब्लीच सॉल्यूशन (5 फीसदी) या सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन (1 फीसदी) से साफ करें और इसके बाद या तो इसे जला दें या फिर गहरे गड्ढे में दबा दें।

 

अगर आपको बुखार, खांसी, जुकाम या सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या होती है, तो पास के स्वास्थ्य केंद्र पर तुरंत सूचना दें या 011-23978046 पर कॉल करें।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts