रनिंग के दौरान अस्थमा के मरीजों को इन बातों का रखना चाहिए ध्यान


रनिंग के दौरान अस्थमा के मरीजों को इन बातों का रखना चाहिए ध्यान

सर्दियों में खाँसी-जुकाम समेत कई परेशनियाँ हो सकती हैं। ठंड के मौसम में अस्थमा के मरीजों को ज़्यादा परेशनी होती है। सर्दियों में तापमान कम होने से अस्थमा अनियंत्रित हो सकता है और साँस लेने में दिक्कत हो सकती है। इस मौसम में साँस की नलियां सिकुड़ने लगती हैं और कफ भी ज्यादा बनता है। इसके अलावा इस धुँए और प्रदूषण की वजह से भी साँस से संबंधित समस्याएँ बढ़ जाती हैं। आमतौर पर अस्थमा के मरीज ज़्यादा भाग-दौड़ और भारी एक्सरसाइज से खुद को दूर रखते हैं। लेकिन हाल ही में हुए एक शोध के मुताबिक अगर अस्थमा से पीड़ित लोग हल्की एक्सरसाइज करते हैं जैसे रनिंग तो ऐसा करने से उनके फेफड़ों के स्वास्थ्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। डॉक्टर्स के अनुसार अस्थमा के मरीजों को रनिंग करने से पहले कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए -  

 

डॉक्टर से सलाह लें 

यदि आपको अस्थमा है तो रनिंग पर जाने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह लें और डॉक्टर द्वारा दी गई दवा समय प् लें बात करें। रनिंग पर जाने से पहले आपको अपने लक्षणों की जाँच करवानी चाहिए। यदि आपका अस्थमा कंट्रोल में है तो आप डॉक्टर की सलाह से रनिंग पर जा सकते हैं। लेकिन यदि आपका अस्थमा अनियंत्रित है तो ज़्यादा तेज़ दौड़ने से आपके फेफड़ों और श्वसन प्रणाली पर बुरा असर हो सकता है। यदि आपको हाल ही में अस्थमा का पता चला है तो आपको किसी भी प्रकार की एक्सरसाइज करने से पहले थोड़ा समय लेना होगा और एक्सरसाइज को और बेहतर बनाने का प्रयास करना होगा।

 

लक्षणों को पहचानें 

यदि आपको अस्थमा है तो आपको उन चीज़ों को बारे में जानना बेहद जरूरी है जिनसे आपका अस्थमा बिगड़ सकता है। जैसे यदि आपको धूल-मिट्टी और प्रदूषण से एलर्जी है तो आपको साफ और खुले वातावरण में रनिंग करनी चाहिए। इसके अलावा आपको रनिंग से पहले वॉर्मअप करना चाहिए जिससे आपका शरीर रनिंग के लिए सहज बन सके। 

 

वॉक कर सकते हैं 

यदि आपको दौड़ने में परेशानी हो रही है तो आप वॉक कर सकते हैं। आप चाहें तो सिर्फ वॉक कर सकते हैं या रनिंग के बीच-बीच में भी वॉक कर सकते हैं। यदि आपको रनिंग करते समय साँस लेने में दिक्कत हो या कोई अन्य लक्षण दिखे तो इसे पहचानें और थोड़ी देर रुक कर आराम करें। 

 

अस्थमा के मरीजों को सर्दियों में इन बातों का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए - 

  • सर्दियों में जब जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें। 
  • सर्दियों के मौसम में अस्थमा अनियंत्रित हो सकता है इसलिए अपने शरीर को गर्म रखें। गर्म चीज़ों का सेवन करें और गर्म कपड़े पहनें। 
  • अपने हाथों को समय-समय पर धोते रहें। इसके अलावा अपने आस-पास की स्वच्छता का भी खास ख्याल रखें। 
  • सर्दियों में आमतौर पर लोग पानी का सेवन काम करते हैं लेकिन अस्थमा के मरीजों को पर्याप्त मात्रा में पानी पीना चाहिए। 
  • अस्थमा के मरीजों को धूम्र[पान और शराब का सेवन नहीं करना चाहिए। 
  • यदि आपके घर में या आस-पास कोई बीमार व्यक्ति है तो उससे दूरी बना कर रखें।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts