जानें आपकी पसंदीदा कॉफ़ी पीने का कब होता है सही समय, कॉफी के फायदे और नुकसान क्या हैं?


जानें आपकी पसंदीदा कॉफ़ी पीने का कब होता है सही समय, कॉफी के फायदे और नुकसान  क्या हैं?

कॉफ़ी दुनिया के सबसे लोकप्रिय पेय पदार्थों में से एक है। इसमें कैफीन नामक एक बहुत ही लोकप्रिय उत्तेजक पाया जाता है। बहुत से लोगों ने चाय के बजाय अब कॉफी पीना शुरू कर दिया है। कई लोग सोने के उठने के तुरंत बाद एक कप कॉफ़ी जरूर पीते हैं। जबकि अन्य लोगों का मानना है कि कुछ घंटों बाद हमें इसका सेवन करना चाहिए, क्योंकि यह हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। आपकी इस दुविधा को मिटाने के लिए आज हम आपको बताएंगे कि कॉफ़ी पीने का सबसे अच्छा समय कौन-सा होता है? जिससे आपको अधिकतम लाभ हो और कम से कम दुष्प्रभाव हो।


कोर्टिसोल और कॉफ़ी

कुछ लोग नींद से उठने के तुरंत बाद या उसकी थोड़ी देर बाद एक कप कॉफी का आनंद उठाते हैं।हालाँकि, लोगों का मानना है कि सो कर उठने के तुरंत बाद कॉफी पीने से शरीर में उसका बढ़ता प्रभाव कम हो जाता है, क्योंकि इस समय आपका तनाव हार्मोन कोर्टिसोल अपने चरम स्तर पर होता है। कोर्टिसोल एक ऐसा हार्मोन है जो हमारी सतर्कता और काम में हमारे फोकस को बढ़ावा देता है। यह आपके शरीर के मेटाबॉलिज्म, प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया और रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है।


हार्मोन आपके नींद और जागने के चक्र के लिए एक रिदम का पालन करता है। आपके सो के उठने के बाद यह हार्मोन ज्यादा मात्रा में होता है और उसके 30-40 मिनट बाद यह अपने चरम पर पहुंच जाता है। तो कॉफ़ी पीने का सबसे अच्छा समय सुबह है, जब आपका कोर्टिसोल का स्तर कम होता है।

ज्यादातर लोग जो सुबह 6:30 बजे उठते हैं, उनके लिए यह समय 9:30 से 11:30 बजे के बीच होगा।


एक और कारण यह है कि कॉफी से कैफीन कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ा सकता है। जब आपका कोर्टिसोल का स्तर अपने चरम पर होता है, तब कॉफ़ी पीना इस हार्मोन के स्तर को और बढ़ा सकता है। लंबे समय तक कोर्टिसोल का ऊंचा स्तर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को खराब कर सकता है, जिससे स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। फिर भी अभी तक ऐसी कोई स्टडी या शोध नहीं हुआ है, जिससे यह साबित हो कि कॉफ़ी पीने से आपके शरीर में कोर्टिसोल का स्तर बढ़ जाता बढ़ जाता है।


इसके अलावा, कोर्टिसोल में कैफीन-प्रेरित वृद्धि उन लोगों में कम हो जाती है, जो रोज कैफीन का सेवन करते हैं। इसके बाद यदि आप उठने पर कॉफ़ी पीना पसंद करते हैं, तो कोई नुकसान नहीं होगा। लेकिन अगर आप अपनी सुबह की कॉफ़ी पीने के समय को बदलने के इच्छुक हैं, तो आप पाएंगे कि कुछ घंटों के लिए अपने कॉफ़ी के सेवन में देरी करने से आपको अधिक ऊर्जा मिल सकती है।


कॉफ़ी आपके व्यायाम प्रदर्शन को बढ़ावा देती है


कॉफ़ी आपको जगाने और सतर्कता बढ़ाने की अपनी क्षमता के लिए जानी जाती है, लेकिन इसमें कैफीन होने के कारण यह एक प्रभावी व्यायाम प्रदर्शन को बढ़ाती है। इसके अलावा, कॉफ़ी प्री-वर्कआउट पाउडर की तरह कैफीन युक्त सप्लीमेंट्स के लिए काफी सस्ता विकल्प हो सकता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि कैफीन व्यायाम की थकावट को कम कर सकता है और मांसपेशियों की शक्ति और उसमें सुधार कर सकता है।


हालांकि यह एक महत्वपूर्ण अंतर नहीं है कि क्या आप उठने पर या कई घंटे बाद अपनी कॉफ़ी पीते हैं, व्यायाम प्रदर्शन पर कॉफ़ी से कैफीन के प्रभाव समय-निर्भर है। यदि आप व्यायाम प्रदर्शन पर कॉफ़ी के लाभकारी प्रभावों का अनुकूलन करना चाहते हैं, तो वर्कआउट या स्पोर्टिंग इवेंट से 30-60 मिनट पहले कॉफ़ी का सेवन करना सबसे अच्छा है। यह वह समय होता है, जो जब आपके शरीर में कैफीन का स्तर को चरम पर ले जाता है।

व्यायाम प्रदर्शन में सुधार के लिए कैफीन की प्रभावी खुराक शरीर के वजन का 3-6mg/kg होनी चाहिए।

68 किलो के व्यक्ति के लिए, यह लगभग 200-400 मिलीग्राम कैफीन, या 2-4 कप (475-950 ml) कॉफ़ी के बराबर होता है।


चिंता और नींद की समस्या


कॉफ़ी में कैफीन जागने में मदद करता है, साथ ही यह कुछ लोगों में नींद और चिंता की समस्या भी उत्पन्न करता है।

कॉफ़ी का सेवन सोने के समय करना जैसे कि रात के खाने के साथ, नींद की समस्या पैदा कर सकता है। नींद पर कैफीन के नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिए, बिस्तर पर जाने से पहले कम से कम 6 घंटे पहले कैफीन का सेवन करें।


नींद की समस्याओं के अलावा, कैफीन कुछ लोगों में चिंता का कारण भी बन सकता है। यदि आप चिंता में हैं तो आपको महसूस होगा कि कॉफ़ी पीने से यह आपकी स्थिति को और खराब करता है। इसलिए जब आप चिंता में हों तो कम से कम या पूरी तरह से कॉफ़ी का सेवन करने से बचें। आप ग्रीन टी ले सकते हैं, जिसमें एक तिहाई कैफीन होता है, जो अमीनो एसिड एल-थीनिन भी प्रदान करता है, जिसमें आराम और शांत गुण होते हैं।


कितनी मात्रा में कैफीन लें जो आपके लिए सुरक्षित हो


1. स्वस्थ व्यक्ति प्रतिदिन 400mg तक कैफीन का उपभोग कर सकते हैं - लगभग 4 कप (950ml) कॉफ़ी के बराबर है।


2. गर्भवती और नर्सिंग महिलाओं के लिए कैफीन उपभोग की मात्रा 300mg है।


3. कैफीन के अन्य सामान्य स्रोतों में चाय, सॉफ्ट ड्रिंक, एनर्जी ड्रिंक और यहां तक कि डार्क चॉकलेट शामिल हैं। 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts