हींग सिर्फ पाचन तंत्र का ही ख्याल नहीं रखती और भी हैं कई बड़े फायदे


हींग सिर्फ पाचन तंत्र का ही ख्याल नहीं रखती और भी हैं कई बड़े फायदे

चुटकी भर हींग की महक पूरी किचन को खुशबूदार बना देती हैं। अक्सर महिलाएं अपनी सब्जी में हींग का इस्तेमाल जरूर करती हैं। ऐसा माना जाता है कि हींग के इस्तेमाल से पाचन तंत्र सही रहता है और व्यक्ति को गैस व अन्य पेट संबंधी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ता। वैसे हींग सिर्फ आपके पाचन तंत्र का ही ख्याल नहीं रखती, बल्कि इससे आपको अन्य भी कई तरह के लाभ होते हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

 

अस्थमा से राहत

हींग में एंटी−इंफलेमेटरी, एंटी−वायरल और एंटीबायोटिक तत्व पाए जाते हैं, जिसके कारण यह श्वसन विकारों जैसे अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, सूखी खांसी आदि में फायदेमंद होती है। इतना ही नहीं, इसके कारण चेस्ट कंजेशन और बलगम भी आसानी से बाहर आ जाता है। छाती से बलगम बाहर निकालने के लिए हींग को पानी में मिलाकर एक पेस्ट बनाएं और उसे अपनी छाती पर लगाएं। वहीं सांस संबंधी समस्याओं से राहत पाने के लिए आप हींग और सूखे अदरक के पाउडर को शहद के साथ मिक्स करके सेवन करें।


कम करें रक्तचाप

अगर आप उच्च रक्तचाप से पीडि़त हैं तो हींग आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। हींग को एक प्राकृतिक ब्लड थिनर के रूप में जाना जाता है, जो रक्तचाप के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है। इसमें कोमेरिन नामक तत्व पाया जाता है जो रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाने में सहायक है, जिससे थक्कों के गठन को रोका जा सकता है।

 

माहवारी में दर्द से राहत

हींग का सेवन महिलाओं के लिए विशेष रूप से लाभदायी माना गया है। हींग पेट के निचले हिस्से और पीठ मे दर्द और ऐंठन को कम करने में आपकी मदद कर सकती है। हींग रक्त को पतला करके बेहतर तरीके से प्रवाह करने में मदद करती है। साथ ही यह प्रोजेस्टेरोन के स्राव को भी बढ़ाती है जो रक्त प्रवाह को आसान बनाता है, जिससे दर्द से राहत मिलती है। इसके लिए आप एक कप छाछ में एक चुटकी हींग, मेथी पाउडर और एक चुटकी नमक मिलाकर पीरियड्स के दौरान इसका सेवन करें।


कम करें सिरदर्द 

चूंकि हींग में एंटी−इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो सिर में रक्त वाहिकाओं की सूजन को कम करते हैं, जिसके कारण व्यक्ति को सिरदर्द से राहत मिलती है। इसके लिए बस आपको कुछ पानी में एक चुटकी हींग को गर्म करना है। प्रभावी परिणाम देखने के लिए दिन में एक से दो बार इस घोल को पियें।

 

मिताली जैन

 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts