स्वाद और सेहत का खजाना है सिंघाड़ा, जानें इसके 6 चमत्कारी फायदे


स्वाद और सेहत का खजाना है सिंघाड़ा, जानें इसके 6 चमत्कारी फायदे

सिंघाड़ा एक ऐसा फल है जो खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ बहुत पौष्टिक भी होता है। सिंघाड़े में विटामिन-ए, सी, मैंगनीज, थायमाइन, कर्बोहाईड्रेट, टैनिन, सिट्रिक एसिड, रीबोफ्लेविन, एमिलोज, फास्फोराइलेज, एमिलोपैक्तीं, बीटा-एमिलेज, प्रोटीन, फैट और निकोटेनिक एसिड जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हैं। सिंघाड़े को आप कच्चा खा सकते हैं या उबाल कर इसे चटनी के साथ भी खा सकते हैं। व्रत में भी सिंघाड़े के आटे की पूजी और हलवा खाया जा सकता है। सिंघाड़े के सेवन से तमाम स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं में लाभ होता है। आज के इस लेख में हम आपको सिंघाड़े के फायदों के बारे में बताएंगे - 


  • प्रेगनेंसी में सिंघाड़े का सेवन करना गर्भवती महिला और उसके शि‍शु के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इससे शिशु के शरीर को ताकत मिलती है और विकास बेहतर ढंग से हो पाता है। सिंघाड़े के सेवन से गर्भपात का खतरा भी कम होता है। इसके अलावा सिंघाड़ा खाने से पीरियड्स संबंधी समस्याएं भी ठीक होती हैं।


  • सिंघाड़े में पर्याप्त मात्रा में आयोडीन पाया जाता है, जो गले संबंधी रोगों से बचाव करता है। सिंघाड़े के सेवन से थाइरॉइड ग्रंथि‍ सुचारू रूप से कार्य करने में मदद मिलती है। 


  • पीलिया के मरीजों के लिए सिंघाड़े का सेवन फायदेमंद होता  है। पीलिया की बीमारी में सिंघाड़ा खाने और इसका जूस पीने से पीलिया को जल्दी ठीक करने में मदद मिलती है।  


  • अस्थमा के मरीजों के लिए भी सिंघाड़ा लाभदायक होता है। सिंघाड़ा खाने से अस्थमा की समस्या कम होती है और सांस संबधी अन्य समस्याओं में भी आराम मिलता है।  


  • हमारी हड्डियों के लिए भी सिंघाड़ा बहुत फायदेमंद है। सिंघाड़े में कैल्शियम होता है इसलिए इसके सेवन से हड्डियां मजबूत बनती हैं। 


  • बवासीर की समस्या में भी सिंघाड़े का सेवन लाभदायक होता है। बवासीर में कच्चे सिंघाड़े के सेवन से बवासीर की समस्या जल्दी दूर होती है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts