डाइट में शामिल करें ये 5 चीज़ें, बच्चे रहेंगे तंदरुस्त और बीमारियां रहेंगी दूर


डाइट में शामिल करें ये 5 चीज़ें, बच्चे रहेंगे तंदरुस्त और बीमारियां रहेंगी दूर

अक्सर देखा जाता है कि माँ-बाप अपने बच्चे की डाइट को लेकर परेशान रहते हैं। कुछ बच्चे खाने में आनाकानी करते हैं जिससे उनका पोषण अधूरा रह जाता है। बढ़ते बच्चों के बेहतर शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत ज़रूरी है कि उन्हें पर्याप्त पोषण मिले। आजकल बच्चे बहुत ज़्यादा जंक फ़ूड खाते हैं जिससे उन्हें सही पोषण नहीं मिलता और वे कमज़ोर रह जाते हैं। ज़्यादा जंक फ़ूड खाने से वे मोटापा, शुगर जैसी गंभीर बिमारियों की चपेट में भी आ जाते हैं।

जब बच्चा बढ़ती उम्र में होता है तो उसके शरीर में विटामिन, मिनरल, आयरन, फैट, कैल्शियम आदि जैसे ज़रूरी पोषक तत्वों की ज़रूरत होती है जो उसे स्वस्थ बनाने में मदद करती हैं। ज़्यादातर मां-बाप का यह सवाल भी होता है कि वे अपने बच्चे को खाने में ऐसा क्या दें जिससे उसकी सही ग्रोथ हो। आज हम आपको ऐसी चीज़ों के बारे में बताने जा रहे हैं जो बच्चों के सम्पूर्ण विकास के लिए बेहद ज़रूरी हैं।

दूध

दूध को कंप्लीट फ़ूड कहा जाता है। इसमें  प्रोटीन, फैट, विटामिन्स, कैल्शियम और फॉस्फोरस जैसे अनेक तत्व होते हैं जो बच्चों के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए ज़रूरी होते हैं। दूध पीने से हड्डियां और दांत मजबूत बनते हैं। बच्चों के आहार ,में दूध और दूध से बनी चीज़ें जैसे दही, घी, पनीर, चीज़ आदि ज़रूर शामिल करें।

हरी सब्ज़ियां

बच्चों को  बचपन से ही हरी सब्ज़ियां खाने की आदत डालें। इसमें कैल्शियम,आयरन, फॉस्फोरस, मिनरल, प्रोटीन, विटामिन ए और सी आदि मौजूद होते हैं जो बच्चे के शारीरिक और मानसिक विकास के लिए बहुत ज़रूरी है। हरी सब्ज़ियां खाने से आँखें और हड्डियां मजबूत होती हैं और साथ ही बेहतर शारीरिक विकास हो पता है। अगर बच्चों को इसका स्वाद ना पसंद आये तो उन्हें सैंडविच या सूप बना के खिलाएं।

अनाज

बच्चों के खाने में रोटी और चावल के साथ-साथ ओट्स, दलिया, ब्राउन ब्रेड आदि भी शामिल करें। ये सभी अनाज कार्बोहायड्रेट युक्त होते हैं और शारीरक विकास के लिए ज़रूरी ऊर्जा की पूर्ती में मदद करते हैं। कार्बोहायड्रेट युक्त आहार करने से ज़्यादा भूख नहीं लगती तो अगर आपका बच्चा ज़्यादा जंक फ़ूड खाता है तो उसके खाने में कार्बोहायड्रेट की मात्रा बढ़ा दें। दलिया और ओट्स में मौजूद फाइबर की वजह से पाचन क्रिया सही रहती है।

अंडे

अंडे में प्रोटीन, विटामिन बी, डी, आयरन और फैट की पर्याप्त मात्रा में मौजूद होती  है जो बढ़ती उम्र के बच्चों के लिए बहुत फायदेमंद है। प्रोटीन शरीर में मांसपेशियों की ग्रोथ और उन्हें मजबूत बनाने में मदद करता है। इसके साथ ही अंडे में मौजूद विटामिन बी और आयरन बच्चों के दिमागी विकास के लिए ज़रूरी है।

ताज़े फल

बच्चों को रोज़ाना फल ज़रूर खिलाएं। मौसमी फल खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ बहुत हेल्दी भी होते हैं। सेब, केला, संतरा, चीकू, अनार आदि फल बच्चों की डाइट में ज़रूर शामिल करें। इनमें विटामिन ए, बी, सी, आयरन, फाइबर भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं। आप चाहें तो फलों को स्मूदी या फ्रूट चाट के तौर पर भी दे सकती हैं।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts