जानिए एक महीने तक अदरक खाने से सेहत पर क्या असर होता है, नतीजे जानकर चौंक जाएंगे आप


जानिए एक महीने तक अदरक खाने से सेहत पर क्या असर होता है, नतीजे जानकर चौंक जाएंगे आप

एक कप अदरक की चाय आपकी दिनभर की थकान मिटाने के लिए काफी है। खाने में मसाले के तौर पर अदरक का इस्तेमाल हर घर में होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि खाने का स्वाद बढ़ाने के अलावा अदरक हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बेहद फायदेमंद है। जी हाँ, हज़ारों सालों से अदरक को आयुर्वेद में औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है। आयुर्वेद में अदरक को सबसे महत्वपूर्ण और स्वास्थ्यप्रद मसलों में से एक माना गया है। अदरक में जिंक, फॉस्फोरस और एंटी-ऑक्सीडेंट्स जैसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो हमारी सेहत के लिए बहुत लाभकारी हैं। अगर आप लगातार एक महीने तक अदरक का सेवन करेंगे तो आपको हाई कोलेस्ट्रॉल, आर्थराइटिस, कैंसर और पेट संबंधी समस्याओं समेत कई अन्य बीमारियों में लाभ हो सकता है। आइए जानते हैं कि लगातार तीस दिनों तक अदरक के सेवन से हमारे स्वास्थ्य पर क्या असर होता है -   


पेट की समस्याओं में फायदेमंद 

नियमित रूप से अदरक का सेवन हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत फायदेमंद साबित होता है। अदरक में मौजूद फेनोलिक एसिड पेट की जलन की समस्या को दूर करने में मदद करता है। अदरक हमारी पाचन शक्ति को मजबूत करता है जिससे गैस, ऐंठन और दस्त जैसी पेट संबंधी समस्याओं में लाभ मिलता है। अदरक के नियमित सेवन से कब्ज की समस्या भी दूर होती है। 


कैंसर से बचाव 

अदरक में कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को रोकने की क्षमता होती है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स कैंसर पैदा करने वाले सेल्स से लड़ कर उन्हें बढ़ने से रोकते हैं।  

अदरक के नियमित सेवन से कई प्रकार के कैंसर से बचाव होता है। अदरक में एपोप्‍टोसिस होता है जिससे ट्यूमर और कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने में मदद मिलती है। अदरक में मौजूद जिंजरोल से त्‍वचा के कैंसर से बचाव होता है। इसके अलावा कोलन के कैंसर से बचने में भी अदरक का सेवन बहुत लाभदायक होता है।  


उल्टी और मितली में राहत  

दादी-नानी के ज़माने से अदरक का इस्तेमाल उलटी और जी मितलाने के उपचार में किया जा रहा है। अदरक के नियमित सेवन से उल्टी और मितली की समस्या में जल्दी आराम मिलता है। गर्भवस्था के दौरान महिलाओं को होने वाली उल्टी और मितली में अदरक का सेवन बहुत फायदेमंद साबित होता है। अक्सर सर्जरी या कीमोथेरेपी के बाद भी जी मितलाने की समस्या होती है, ऐसे में अदरक के सेवन से बहुत राहत मिलती है। 


अल्‍जाइमर के लिए फादेमंद 

नियमित रूप से अदरक का सेवन करने से अल्‍जाइमर की बीमारी में लाभ होता है। अक्सर ज्यादा तनाव या शारीरिक कमजोरी की वजह से भी याददाश्त कम होने लगती है। अदरक में कई एंटीऑक्सीडेंट्स और पोषक तत्व भरपूर मात्रा में मौजूद होते हैं जो दिमाग में होने वाली सूजन को कम करके याददाश्त बढ़ाने में मदद करते हैं।  


पेट के अल्‍सर ठीक करता है  

अदरक का इस्तेमाल पेट के अल्सर के इलाज में भी किया जाता है। अदरक के नियमित सेवन से पेट में अल्सर को बढ़ने से  रोकने में मदद मिलती है। अदरक अल्सर पैदा करने वाले एच।पिलोरी बैक्टेरिया को बढ़ने से रोकता है। पेट के अल्सर और अन्य समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए अपने खाने में नियमित रूप से अदरक का इस्तेमाल करें।


गठिया के दर्द में आराम 

आर्थराइटिस या जोड़ों के दर्द में भी अदरक का इस्तेमाल बहुत लाभदायक होता है। अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जोड़ों के दर्द और आर्थराइटिस या गठिया से संबंधित दर्द को कम करने में मदद करते हैं। अदरक में कई पोषक तत्‍व पाए जाते हैं जो हड्डियों को मजबूत बनाते हैं। गठिया के दर्द से राहत पाने के लिए, गर्म अदरक के पेस्ट को हल्दी के साथ एक दिन में दो बार प्रभावित क्षेत्र पर लगाने से गठिया के दर्द में राहत मिलती है। । 


पीरियड्स के दर्द से राहत  

अदरक के सेवन से पीरियड्स में होने वाले दर्द को कम करने में मदद मिलती है। पीरियड्स के दौरान अदरक के पाउडर का सेवन करने से मासिक धर्म के दर्द से राहत मिलती है। आप चाहें तो अरदक को पानी में उबालकर भी इसका सेवन कर सकती हैं। इससे भी पीरियड्स के दर्द में जल्दी आराम होता है। 


कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित करता है 

हाई कोलेस्ट्रॉल की समस्या में भी अदरक का सेवन बहुत फ़ायदेमंद होता है। गलत खान-पान के कारण अक्सर कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है जिससे दिल की बीमारी होने का खतरा बढ़ जाता है। नियमित अदरक के सेवन से कोलेस्ट्रॉल लेवल नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts