परेशानी खड़ा कर सकता है जरूरत से ज्यादा पापड़ का सेवन


परेशानी खड़ा कर सकता है जरूरत से ज्यादा पापड़ का सेवन

भारतीय घरों में खाना तब तक पूरा नहीं माना जाता, जब उसके साथ सलाद, अचार या पापड़ न परोसा जाए। कुछ लोग तो खिचड़ी, कढ़ी चावल यहां तक कि रोटी आदि के साथ भी पापड़ खाना पसंद करते हैं। इससे यकीनन भोजन का स्वाद कई गुना बढ़ जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जरूरत से ज्यादा पापड़ का सेवन आपके लिए परेशानी भी खड़ी कर सकता है। यहां तक कि इससे आपको कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता है। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

अत्यधिक नमक

पापड़ का अधिक सेवन करने से आप सोडियम की अधिक मात्रा लेते हैं। दरअसल, पापड के आटे की मुख्य सामग्री में नमक है। इसका उपयोग पापड़ को अधिक स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता है, साथ ही यह एक प्रिजर्वेटिव्स की तरह भी काम करता है। लेकिन जब आप खाने के साथ पापड़ का सेवन करते हैं तो इससे आपके रक्त में नमक की मात्रा काफी अधिक चली जाती है और सोडियम की अधिक मात्रा के कारण आपको हाई ब्लड प्रेशर, वाटर रिटेंशन, पेट फूलना, बार−बार प्यास लगना व मधुमेह की समस्या हो सकती है।


मसाला पापड़

आजकल मार्केट में कई तरह के फलेवर के पापड़ मिलते हैं और पापड़ खाने के शौकीन लोग कई तरह के मसालेदार पापड़ खाना पसंद करते हैं। अगर आपकी भी यही आदत है तो हम आपको बता दें कि यह सेहत के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है। जब आप एक साथ कई मसालेदार पापड़ का सेवन करते हैं तो इससे आपका पेट अपसेट हो सकता है। आपको एसिडिटी व अन्य पाचनसंबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

 

कब्ज की समस्या 

आपको शायद जानकर हैरानी हो लेकिन पापड़ से व्यक्ति को कब्ज की समस्या भी हो सकती है। यदि पापड़ अधिक मात्रा में खाए जाते हैं, तो पेट में एक बार पापड़ का आटा आंतों की परत में चिपक सकता है और कब्ज या गैस्टि्रक समस्या पैदा कर सकता है।

पापड़ का तेल

कुछ लोग बाजार में पापड़ को फ्राई किया हुआ खाना पसंद करते हैं। लेकिन जब पापड़ों को एक ही तेल का उपयोग करके बार−बार तला जाता है, तो पुनः उपयोग किया जाने वाला तेल ट्रांस−वसा में समृद्ध हो जाता है या यदि तेल की गुणवत्ता अच्छी नहीं होती तो यह आपके स्वास्थ्य पर अन्य प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। इससे शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ सकता है जिससे हृदय की समस्या, मधुमेह आदि हो सकते हैं।

 

मिताली जैन

 

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts