पौष्टिक तत्वों से भरपूर होते हैं ड्राई फ्रूट्स लेकिन अधिक मात्रा में खाने से होते हैं यह नुकसान


पौष्टिक तत्वों से भरपूर होते हैं ड्राई फ्रूट्स लेकिन अधिक मात्रा में खाने से होते हैं यह नुकसान

भारतीय खाने पीने के काफी ज्यादा शौकीन होते हैं और हों भी क्यों ना, भारत में हर मौसम में कुछ न कुछ ख़ास खाने को जो मिलता है,जैसे की – मिठाइयां, स्नैक्स, खीर इत्यादि, इन सभी में ही ड्राय फ्रूट्स का प्रयोग किया जाता है। ड्राई फ्रूट्स को हिंदी में सूखेमेवे के नाम से भी जाना जाता है। ड्राई फ्रूट्स फल होते है जिसमें से अधिकांश जल को प्राकृतिक रूप से, सूर्य के प्रकाश के माध्यम से, या डीहाइड्रेटर्स के उपयोग के माध्यम से हटा दिया जाता है। ड्राई फ्रूट्स प्रोटीन, विटामिन, खनिजों, फाइबर और उच्च कैलोरी स्नैक्स का एक आदर्श स्रोत हैं। हेल्दी और फिट रहने के लिए ड्राईफ्रूट्स (Dry Fruits) का सेवन बेहद फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। ड्राई फ्रूट्स में शक्तिशाली एंटीआक्सीडेंट मौजूद होता है। इसलिए अगर आप रोजाना सीमित मात्रा में ड्राई फ्रूट्स का सेवन करते हैं, तो इससे कई बीमारियां दूर होती है। साथ ही शरीर में एनर्जी भी बनी रहती है। सुबह खाली पेट भीगे हुए ड्राईफ्रूट्स (Dry Fruits) खाएं तो कई तरह की बीमारियों से बचे रह सकते हैं। साथ ही हेल्दी और फिट बॉडी पाने, निरोगी रहने के लिए भी नट्स या सूखे फलों का सेवन किया जाता है। हम सभी की डेली डाइट (Daily Diet) में नट्स महत्वपूर्ण रोल प्ले करते हैं। आजकल नट्स का इस्तेमाल कई तरह के खाना बनाने के लिए भी किया जाता है। शोधों तथा अध्ययन से यह पाया गया है कि सूखे मेवों में प्रोटीन, अतृप्त वसा (unsaturated fat), फाइबर, विटामिन, खनिज तथा एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। ड्राई फ्रूट्स का नियमानुसार सेवन हृदय, सांस, नेत्र संबंधी रोग, बुढ़ापे से बचाव करता है। दिमाग को मजबूत तथा अन्य बीमारियों के खतरे को कम करता है।  ड्राई फ्रूट्स के फायदे हमारे शरीर को तभी मिल सकते हैं, जब हमें यह पता हो कि कौन सा ड्राई फ्रूट कब खाना चाहिए।

ड्राई फ्रूट्स के कमाल के फायदे

कोलेस्ट्रॉल को करता है कंट्रोल

ड्राई फ्रूट्स का सेवन हार्ट (Heart) के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। साथ ही ड्राई फ्रूट्स खाने से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी नियंत्रित रहता है। जिससे हार्ट अटैक का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। इसलिए जिन लोगों का कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हो, उनको रोजाना सीमित मात्रा में ड्राई फ्रूट्स का सेवन करना चाहिए। इसके लिए आप अखरोट, बादाम और पिस्ता का सेवन कर सकते हैं।

कैंसर से बचाव

ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने से कैंसर (Cancer) जैसी घातक बीमारी के खतरे को कम किया जा सकता है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व मौजूद होते हैं, जिससे कैंसर जैसी बीमारी को दूर रखा जा सकता है। इसके लिए रोजाना सीमित मात्रा में काजू, किशमिश, पिस्ता, अखरोटा का सेवन करना चाहिए।

कब्ज की समस्या के लिए लाभदायक

आजकल ज्यादातर लोगों में कब्ज की समस्या देखने को मिल रही है, लेकिन अगर आप रोजाना ड्राई फ्रूट्स का सेवन करते हैं, तो इससे कब्ज (Constipation) की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। साथ ही ड्राई फ्रूट्स के सेवन से पाचन तंत्र भी मजबूत होता है। इसके लिए आप बादाम, खजूर, अखरोट, किशमिश और पिस्ता जैसे ड्राई फ्रूट्स का सेवन कर सकते हैं। क्योंकि इसमें फाइबर की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है।

एनीमिया की शिकायत होती है दूर

आजकल ज्यादातर लोगों में एनीमिया (Anemia) की शिकायत देखने को मिलती है। लेकिन अगर आप रोजाना ड्राई फ्रूट्स का सेवन करते हैं, तो इससे एनीमिया यानी शरीर में खून की कमी दूर होती है। इसके लिए आप किशमिश, काजू, पिस्ता, बादाम जैसे ड्राई फ्रूट्स का सेवन कर सकते हैं, क्योंकि इसमें आयरन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है।

हड्डियां बनाती हैं मजबूत

ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने से हड्डियां (Bones) मजबूत होती हैं। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स में कैल्शियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसलिए अगर कोई रोजाना नियमित रूप से ड्राई फ्रूट्स का सेवन करता है, तो इससे हड्डियां मजबूत होती हैं। साथ ही जोड़ों के दर्द से भी छुटकारा मिलता है। इसके लिए आप काजू, किशमिश और अखरोट का सेवन करते हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है 

ड्राई फ्रूट्स का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक (Immunity) क्षमता मजबूत होती है। जिससे आप किसी भी तरह के वायरल इंफेक्शन से काफी हद तक बच सकते हैं। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स एंटीआक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। इसके लिए आप रोजाना बादाम, किशमिश, अखरोट, खजूर, छुहारा का सेवन कर सकते हैं।

स्किन के लिए फायदेमंद

ड्राई फ्रूट्स स्वास्थ्य के साथ-साथ स्किन (Skin) के लिए भी काफी फायदेमंद साबित होता है। क्योंकि ड्राई फ्रूट्स एंटीआक्सीडेंट गुणों से भरपूर होता है। साथ ही उसमें कई विटामिन्स भी मौजूद होते हैं। इसलिए अगर आप रोजाना नियमित रूप से बादाम, किशमिश, काजू का सेवन करते हैं, तो स्किन हेल्दी रहती है।

आइए जानते हैं अलग-अलग ड्राईफ्रूट्स के बारे में और यह सेहत के लिए किस तरह फायदेमंद हैं -

1.बादाम

बादाम वेट लॉस के लिए सबसे अच्छा ड्राई फ्रूट है। ये मेटाबोलिज्म रेट को बढ़ावा देने, खराब एलडीएल कोलेस्ट्रॉल से लड़ने और खराब लिपिड में कटौती करने का काम करता है। जो वज़न घटाने वाले लोगों के लिए फायदेमंद है। साथ ही, बादाम प्रोटीन, क्रोम सेप्टेट फैट यानी मोनो-संतृप्त वसा और एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर होने के कारण भूख को कंट्रोल करता है और वेट लॉस के प्रोसेस में मदद करता है। बादाम में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है। 100 ग्राम बादाम में केवल 576 किलो कैलोरी होती है।

2. किशमिश

अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैं, तो आपको किशमिश खाने से बचना चाहिए। पर अगर वजन घटाना चाह रहे हैं, तो किशमिश खाना फायदेमंद है। किशमिश में आयोडीन की काफी मात्रा होती है। 100 ग्राम किशमिश में, केवल 0.5 ग्राम फैट और 299 किलो कैलोरी होती है।

3. अखरोट

अखरोट कई पोषक तत्वों की भरमार है। 100 ग्राम अखरोट में 38.08 ग्राम आमेगा 6 पाया जाता है। जो शरीर के फैट को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, अखरोट में विटामिन बी, बिटामिन सी, बिटामिन के, विटामिन बी2 आदि तत्व पाए जाते हैं। ये इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाते हैं और सर्दी-जुकाम जैसी मौसमी बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं। अखरोट की तासीर गर्म होती है, जिससे शरीर को नैचुरली गर्मी मिलती है।

4. पिस्ता

पिस्ता में भरपुर मात्रा में विटामिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं जो, ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। इसके एंटीऑक्सिडेंट शरीर के एक्स्ट्रा फैट से लड़ने और आपके मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देने में भी कारगार हैं। इसके अलावा, ये हाई फाइबर से भरपूर है, जो आपको लंबे समय तक भरा हुआ महसूस करवाता है और डाइजेशन को बेहतर बनाता है।

5. खजूर

स्वाद में भरपूर और वजन घटाने में माहिर है खजूर। ऐसा इसलिए क्योंकि खजूर में हाई फाइबर कंटेंट होते हैं, जो आपको भरा हुआ महसूस करवा के भूख को दबाने में मदद करते हैं। खजूर आपके शरीर में विटामिन बी 5 की कमी को दूर करता है। बता दें कि, विटामिन बी 5 आपकी सहनशक्ति को बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

6. काजू

काजू मैग्नीशियम से भरपूर होता है जो वज़न घटाने में बहुत कारगर है। ऐसा इसलिए क्योंकि मैग्नीशियम शरीर में फैट और कार्बोहाइड्रेट मेटाबोलिज्म को रेगुलेटेड करने में मदद करता है। जिससे वेट लॉस प्रोसेस में तेज़ी आती है।

7. खुबानी

खुबानी, खाने के कम से कम 5 घंटे बाद तक आपको भूख लगने से रोक सकती है। इसके अलावा, ये आपके शरीर को मैग्नीशियम तत्व से भरती है जो फैट के मेटाबोलिज्म को कंट्रोल करता है। खुबानी में थोड़ा मीठा स्वाद होता है और आप इन्हें पकाते समय कुछ खास मिठाइयों में मिला सकते हैं। लेकिन डायबिटीज के पेशेंट को इसे खाने से बचना चाहिए।

8. अंजीर

अंजीर खाने से डाइजेस्टिव सिस्टम मज़बूत होता है और आपको कब्ज की समस्या से छुटकारा भी मिल सकता है, इसलिए रोजाना शहद के साथ सिर्फ दो-तीन अंजीर ज़रूर खाएं।

9. चिरौंजी

चिरौंजी में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। जो शरीर की कमजोरी को दूर और इम्यूनिटी बूस्ट करने में मदद करता है। साथ ही, सर्दी-जुकाम में इसका सेवन बेहद ही फायदेमंद माना जाता है।

ड्राई फ्रूट्स के नुकसान

1. ड्राई फ्रूट्स में फाइबर की ज्यादा मात्रा पाई जाती है। इसलिए अगर आप ड्राई फ्रूट्स का अधिक मात्रा में सेवन करते हैं, तो इससे पेट संबंधी बीमारी हो सकती है।

2. ड्राई फ्रूट्स के सेवन से कई लोगों को एलर्जी (Allergy) होती है। ऐसे में अगर ड्राई फ्रूट्स खाने के बाद किसी भी तरह की स्किन संबंधी एलर्जी हो, तो इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

3. ड्राई फ्रूट्स का अधिक मात्रा में सेवन करने से आप मोटापा के शिकार हो सकते हैं। इसलिए जिन लोगों को वजन कम करना हो, उनको ड्राई फ्रूट्स का सीमित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए।

4. ड्राई फ्रूट्स में काजू का अधिक मात्रा में सेवन करने से माइग्रेन (Migraine) की शिकायत हो सकती है।

5. जिन लोगों को किडनी (Kidney) संबंधी बीमारी हो, उनको पिस्ता का सेवन नहीं करना चाहिए।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts