रहना चाहते हैं टेंशन फ्री तो आज ही शामिल करिए अपने खाने में ये 5 सुपरफूड्स


रहना चाहते हैं टेंशन फ्री तो आज ही शामिल करिए अपने खाने में ये 5 सुपरफूड्स

आजकल की भाग-दौड़ भरी और व्यस्त जीवनशैली में हम कहीं ना कहीं अपने स्वास्थ्य को नज़रअंदाज कर देते हैं। आज के समय में कंपटीशन इतना ज़्यादा बढ़ गया है कि हर कोइ सबसे आगे रहना चाहता है। लेकिन कई बार इसका हमारी सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ता है। आज के समय में बच्चे से लेकर बूढ़े तक, हर कोई तनाव और चिंता का शिकार है। बच्चों को पढ़ाई और अच्छे मार्क्स की चिंता रहती है तो बड़ों को नौकरी व अन्य चीज़ों की चिंता। हमारी रोज़मर्रा की जिंदगी में तनाव या चिंता होना तो आम है लेकिन कभी-कभी यह चिंता इतनी ज़्यादा बढ़ जाती है कि एंग्जाइटी और डिप्रेशन जैसी गंभीर बीमारियों में बदल जाती है। इससे बचने के लिए बहुत जरूरी है कि आप अपने शारीरिक स्वास्थ्य के साथ-साथ अपने मानसिक स्वास्थ्य पर भी ध्यान दें। आज के इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे फूड्स के बारे में बताएंगे जो स्ट्रेस और डिप्रेशन जैसी समस्या कम करने में आपकी मदद करेंगे  -  


ओमेगा 3 

तनाव और डिप्रेशन दूर करने के लिए ओमेगा 3 फैटी एसिड का सेवन करना फायदेमंद रहता है। रिसर्च में पाया गया है कि ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त आहार से दिमाग पर एंटी-इंफाल्मेटरी प्रभाव होता है और ब्रेन सेल्स मजबूत बनते हैं। इससे ना सिर्फ एंग्जायटी और डिप्रेशन की शिकायत दूर होती है बल्कि नींद भी अच्छी आती है। अगर आप तनाव और डिप्रेशन से परेशान हैं तो अपनी डाइट में ऐसी चीजों को शामिल करें जिनमें ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता हो। मछली, अखरोट, अलसी के बीज, ऑलिव ऑयल और हरी पत्तेदार सब्जियों आदि में ओमेगा 3 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में पाया जाता है।  


हल्दी 

हल्दी का इस्तेमाल ना सिर्फ खाने में मसाले के तौर पर किया जाता है बल्कि यह हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फायदेमंद होती है। हल्दी में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लामेटरी गुण मौजूद होते हैं जो मूड अच्छा करने के साथ-साथ मस्तिष्क के लिए फायदेमंद भी होते हैं। हल्दी में कर्क्युमिन नामक तत्व पाया जाता है जो तनाव, डिप्रेशन और एंग्जाइटी जैसी समस्याओं को दूर करता है। आप अपने खाने के अलावा सूप, स्मूथी या चाय में भी हल्दी का इस्तेमाल कर सकते हैं। 


फाइबर 

यह तो शायद आप जानते होंगे के कि वजन कम करने के लिए फाइबर युक्त खाना खाने की सलाह दी जाती है। ऐसा इसलिए क्योंकि फाइबर से डायजेशन में मदद मिलती है और पेट भी लंबे समय तक भरा रहता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि फाइबर युक्त भोजन करने से डिप्रेशन और एंग्जाइटी जैसी मानसिक समस्याओं में भी फायदा होता है। रिसर्च में पाया गया है कि हाई फाइबर डाइट खाने से दिमाग में सूजन कम होती है जिससे एंग्जायटी और डिप्रेशन की शिकायत कम होती है। अपने खाने में हरी सब्जियाँ, चावल, ओट्स, दालें, बींस, और फल जैसे सेब, केला आदि शामिल करें।  


प्रोबायोटिक 

एक रिसर्च के मुताबिक हमारी गट हेल्थ का असर हमारे दिमाग पर भी होता है। रिसर्च में पाया गया है कि पेट में मौजूद बैक्टीरिया डिप्रेशन और चिंता बढ़ाने के लिए जिम्मेदार होते हैं। डॉक्टर्स के मुताबिक प्रोबायोटिक या खमीर से बने खाद्य पदार्थ तनाव और डिप्रेशन को दूर करने में मदद करते हैं। इसके लिए आप अपने खाने में दही, इडली या एप्पल साइडर विनेगर (सेब का सिरका) शामिल कर सकते हैं। 


विटामिन डी 

विटामिन डी हमारे शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए बहुत जरूरी है। शरीर में विटामिन डी की कमी होने से मस्तिष्क को सही पोषण नहीं मिल पता है  जिसकी वजह से व्यक्ति को डिप्रेशन और एंग्जाइटी जैसी मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। डॉक्टर्स के अनुसार विटामिन डी का सबसे अच्छा स्रोत सूरज की किरणें हैं इसलिए रोजाना कुछ देर धूप में वक्त बिताना चाहिए। इसके अलावा दूध, अंडा और मशरूम में भी विटामिन डी की पर्याप्त मात्रा मौजूद होती है।

डिस्क्लेमर: इस लेख के सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन सुझावों और जानकारी को किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर न लें। किसी भी बीमारी के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।


Related Posts